BHOPAL : भाजपा सरकार बनी तो ज्योतिरादित्य सिंधिया होंगे मुख्य किरदार


भोपाल : भाजपा में ज्योतिरादित्य सिंधिया की एन्ट्री से मध्यप्रदेश की राजनीति प्रासंगिक हो गयी है। मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिरने के बाद भाजपा को सिंहासन में मिलता है तो ज्योतिरादित्य सिंधिया मुख्य किरदार साबित होंगे। क्योंकि 14 माह पहले 25 दिसम्बर 2018 को मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद गिराने की कोशिश भाजपा पहले कर चुकी है। लेकिन तब ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस के नेता थे। अब सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के बाद भाजपा के हर फैसले पर उनका दखल बढ़ेगा। भाजपा की सरकार आते ही भाजपा के भविष्य के लिए भी ज्योतिरादित्य सिंधिया सर्वाधिक अहम होंगे और उनके 22 समर्थक विधायकों को नई राह मिल सकती है।

16 मार्च मध्यप्रदेश के सियासी संकट का 14वां दिन है, भाजपा और कांग्रेस अग्नि परीक्षा के लिए ताल ठोकने में पीछे नहीं है। सवाल अब आगे की रणनीति का है। फिलहाल फ्लोर टेस्ट टला तो सुप्रीम कोर्ट जाने से लेकर राष्ट्रपति शासन तक के आसार लगाए जा रहें। मध्यप्रदेश सरकार को बचाने के लिए कांग्रेस हर संभव प्रयास कर राजनीतिक गणित लगा रही। हालांकि कांग्रेस का दावा है कि सरकार सुरक्षित है।

राज्यपाल लालजी टंडन ने कमलनाथ के नेतृत्व वाली सरकार को अल्पमत में बताते हुए भले ही सदन में बहुमत सिद्ध करने के निर्देश दे दिए हों, लेकिन सरकार तैयार नहीं है। तर्क दिया जा रहा है कि राज्यपाल ने संविधान के जिस नियम के तहत फ्लोर टेस्ट के निर्देश दिए हैं, सदन उसको मानने बाध्य नहीं है। निर्णय सदन को करना है कि सरकार कब बहुमत सिद्ध करे। संभावना जताई जा रही है कि यदि सरकार राज्यपाल का आदेश नहीं मानती है तो भाजपा सुप्रीम कोर्ट में जाने से लेकर राज्यपाल को राष्ट्रपति शासन लगाने तक की सिफारिश कर सकती है।
Powered by Blogger.