REWA : अब 26 को भारत बंद का ऐलान, पेट्रोल-डीजल मूल्य वृद्धि से लेकर GST की खामियो के खिलाफ सड़क पर उतरेंगे लोग

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

    

सतना. देश में एक बार फिर से आंदोलनों का दौर चल पड़ा है। तकरीबन छह साल पहले वाले सूरत-ए-हाल बनते नजर आ रहे हैं। दिल्ली सीमा पर पंजाब और हरियाणा के किसान कृषि कानून को लेकर तीन महीने से जमे हैं। इसी दरम्यान पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि ने लोगों को सड़क पर उतरने को विवश हैं। इतना ही नही व्यापारी वर्ग की अलग समस्या है, वह जीएसटी की खामियों से परेशान है। ऐसे में अब 26 फरवरी को भारत बंद का ऐलान किया गया है।

भारत बंद के ऐलान से पूर्व देश के व्यापारियों की शीर्ष संस्था कन्फैडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) का प्रतिनिधिमंडल राज्यकर उपायुक्त से मिल कर केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण को संबोधित ज्ञापन सौंप चुका है। कैट से जुड़े व्यापारी जीएसटी और ई-कॉमर्स की जटिल नीतियों का विरोध कर रहा है। कैट के प्रदेश सचिव अशोक दौलतानी के नेतृत्व मे चंद्रशेखर अग्रवाल, पवन मलिक, मनोहर डिगवानी, संदीप मंगल, राजीव गुप्ता ने ज्ञापन के माध्यम से जीएसटी व ई कामर्स की जटिलता को समाप्त करने की मांग की है।

वैसे कैट इस मुद्दे पर 10 दिन से लगातार जागरूकता अभियान भी चला रहा है। इसके तहत व्यापारी वर्ग को 26 फरवरी के भारत बंद से जोड़ने के लिए जगह-जगह पोस्टर लगा कर व्यापारियों से अपना कारोबार बंद रखने की अपील कर रहे हैं।

उधर ट्रेड यूनियन महंगाई के मुद्दे पर आंदोलित है। पेट्रोल-डीजल मूल्य वृद्धि का पुरजोर विरोध किया जा रहा है। विरोध के तहत ट्रेड यूनियन साइकिल मार्च भी निकाल चुके हैं। टीयूसी महासचिव संजय सिंह तोमर ने पेट्रोल-डीजल मूल्य वृद्धि पर केंद्र सरकार को घेरा। कहा कि वर्तमान में केंद्र और राज्य सरकारें पेट्रोल डीजल और रसोई गैसों के कीमतों में रोजाना बढ़ोतरी कर रही हैं। उन्होंने कहा कि देश की जनता समझ रही है कि ये वही सरकार से जुड़े लोग हैं जो सत्ता में आने के पहले महंगाई को लेकर देश भर में आंदोलन कर रहे थे। अब वो ही इस महंगाई को जायज ठहराने में मस्त है,जबकि आज जब पेट्रोल का बेस प्राइज 33: 93 रुपये है। ऐसे में सारे खर्च जोड़ने के बावजूद तिगुना 66 रुपये से भी ज्यादा मुनाफा कमा रहे हैं। यही वजह है कि पेट्रोल 100: 49 रुपये हो चुका है।

ट्रेड यूनियन के पदाधिकारियों ने कहा है कि 26 फरवरी की शाम 5 बजे सतना टॉउनहाल हाल में एकत्रित होकर सांसद गणेश सिंह को फूल के साथ ज्ञापन सौंपेंगे।

Powered by Blogger.