कोरोना मरीजों को होता है HEART ATTACK से मौत का ज्यादा खतरा, डॉक्टर ने बताया उससे बचने के तरीके, पढ़िए पूरी खबर...

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

नई दिल्ली . देश में कोरोना घातक रूप ले रहा है और रोज हजारों लोगों की मौत हो रही है. दरअसल, कोरोना वायरस शरीर में पहुंचकर कई तरह से नुकसान पहुंचाता है. लंग्स खराब करने के साथ मरीजों में पैरालिसिस और हार्ट अटैक जैसी घटनाएं भी देखी जा रही हैं.

कई मामले ऐसे भी सामने आए हैं, जिनमें देखा गया है कि बीते साल की अपेक्षा इस साल कोविड पेशेंट्स में हार्ट अटैक की घटनाएं काफी देखने को मिल रही हैं. ऐसे में थोड़ी सतर्कता जान बचा सकती है.

सीनियर फिजीशन और कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर के के अग्रवाल कोरोना के दौरान लोगों को वीडियोज के जरिए जागरूक कर रहे हैं. उन्होंने हाल ही में ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें बताया गया है कि कोविड-19 के दौरान अचानक से हार्ट अटैक होने पर मौत से कैसे बचा जाए

शेयर किए गए इस वीडियो में डॉक्टर सीनियर जर्नलिस्ट रोहित सरदाना की मौत का जिक्र करते हैं. वह बताते हैं कि खबरें आईं कि वह कोविड से पीड़ित थे और हार्ट अटैक से मौत हो गई. इससे यह पता चलता है कि Covid-19 में हार्ट अटैक से डेथ हो सकती है. उन्होंने बताया कि इसके लिए क्या कर सकते हैं.

ये लक्षण दिखें तो सतर्क हो जाएं

डॉक्टर के के अग्रवाल बताते हैं, आपके छाती के बीचों-बीच जलन है, घुटन है, दवाब है, आपको दर्द हो रहा है, एसिडिटी, पसीना या सांस फूलने जैसे लक्षण दिखें तो तुरंत वॉटर सॉल्युबल ऐस्प्रिन 300 मिली की गोली चबा लें. मरने की संभावना 22 फीसदी कम हो जाती है. 

अगर आपकी उम्र 30 साल से ऊपर है, कोविड है और अचानक छाती के बीचोबीच, दबाव, घुटन जैसे लक्षण दिखें तो सबसे पहले ऐस्प्रिन चबा लें. 

अगर आपके पास 'Statin' है तो 40 मिग्रा Rosuvastatin ले लें. इसकी जगह Atorvastatin 80 मिग्रा भी ले सकते हैं.

अगर आपके पास Clopidogrel है तो 75 मिलीग्राम की 8 गोलियां तुरंत पानी के साथ ले लें. अगर नहीं है तो आप डिस्प्रिन ले सकते हैं.

फर्स्ट-एड के बाद तुरंत हॉस्पिटल पहुंचें- केके अग्रवाल 

डॉक्टर के के अग्रवाल बताते हैं कि इससे आपको इतना समय मिल जाएगा कि आप हॉस्पिटल पहुंच सकेंगे और इलाज शुरू हो जाएगा. डॉक्टर ने बताया कि अगर आपको कोविड है और ऐसा लगता है कि हार्ट अटैक हो गया है तो सबसे अहम फर्स्ट एड पानी में घुलने वाली 300mg ऐस्प्रिन है. इस गोली को चबाना है. बाकी बताई गईं दवाएं आप बाद में अरेंज कर सकते हैं. इन्हें डॉक्टर से बात करके ही मरीज को दें. 

Powered by Blogger.