MP : कांग्रेस नेता ऋषभ भदौरिया ने शक के चलते अपनी पत्नी को सिर में गोली मारकर हत्या कर दी

ग्वालियर में कांग्रेस नेता ऋषभ भदौरिया ने शक के चलते अपनी पत्नी भावना की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना के समय दंपती के दोनों बच्चे करीब ही बिस्तर पर सो रहे थे। वारदात से पहले पति-पत्नी में विवाद हुआ। इसी दौरान जब पति के सिर पर खून सवार हो गया तो महिला अपनी जान बचाने के लिए बाहर की तरफ भागी, लेकिन आरोपी ने उसके सिर में गोली मारकर हत्या कर दी।

आरोपी कांग्रेस का पूर्व प्रवक्ता भी रह चुका है। परिचितों का कहना है कि पिछले एक महीने से पत्नी से उसका विवाद चल रहा था। उसे शक था कि भावना उससे बातें छुपाती है। वारदात के बाद आरोपी हथियार लेकर फरार हो गया।

यह है पूरा मामला

ये घटना शहर के रामनगर के थाटीपुर इलाके में हुई। यहां रहने वाला ऋषभ सिंह भदौरिया कांग्रेस नेता है। वह पार्टी का प्रदेश स्तर का प्रवक्ता भी रह चुका है। साथ ही आदतन अपराधी भी है। रविवार-सोमवार दरमियानी रात 3 बजे उसने पत्नी भावना भदौरिया से विवाद शुरू किया। उसे शक था कि पत्नी उससे कुछ छुपा रही है।

विवाद के दौरान कांग्रेस नेता ने जमकर चिल्लाना शुरू कर दिया। जिससे पास ही में सो रहे उसके दोनों बच्चों की नींद खुल गई। इसी बीच उसने पत्नी पर हथियार तान दिया। भावना बचने के लिए रूम से निकलकर बाहर की तरफ भागी, अभी वह आंगन में आई ही थी कि तभी ऋषभ ने उसके सिर को निशाना बनाकर फायर कर दिया। गोली उसके सिर में लगी और वह वहीं ढेर हो गई। इसके बाद आरोपी हथियार और अपना जरूरी सामान लेकर फरार हो गया।

पिता ने दी पुलिस की सूचना

पुलिस को इस वारदात की सूचना ऋषभ के पिता कृष्णकांत ने दी। प्रारंभिक जांच में शक को ही हत्या की वजह माना जा रहा है। हालांकि असली वजह का खुलासा आरोपी की गिरफ्तारी के बाद ही होगा। पुलिस ने महिला के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और मामले की विवेचना शुरू कर दी है।

हथियार लेकर फरार हुआ आरोपी

जब पुलिस मौके पर पहुंच तो स्पॉट पर कोई भी हथियार नहीं मिला। जिसकी वजह से ये पता नहीं चल सका कि आरोपी ने किस हथियार का उपयोग कर पत्नी की हत्या की है। परिजन भी कुछ नहीं बता पा रहे हैं। हालांकि फोरेंसिक एक्सपर्ट ने पुलिस को राय दी है कि जिस तरह गोली सिर में लगी है और घाव हुआ है उससे यह साफ है कि पिस्टल से गोली चलाई गई है।

आरोपी का है आपराधिक रिकॉर्ड

आरोपी कांग्रेस नेता का तगड़ा आपराधिक रिकॉर्ड है। 2001 में उसकी बहन की हत्या के मामले में भी उसका नाम आया था। इसके बाद चेतकपुरी में हुई एक लूट में भी उसका नाम था। 2 अप्रैल 2018 को ग्वालियर के थाटीपुर से शुरू हुई जातिगत हिंसा को लेकर भी उस पर दो मामले दर्ज हुए थे। ऋषभ भदौरिया के खिलाफ साल 2020 में जिला बदर की कार्रवाई का नोटिस भी जारी किया गया था। आरोपी पर लूट और 4 हत्याओं का पहले से ही केस भी दर्ज है।

पूर्व सीएम के अलावा कई मंत्रियों संग फोटो

जब पुलिस घटनास्थल पर पहुंची तो देखा कि आरोपी के कमरे में कई बड़े नेताओं के साथ उसके फोटो लगे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के साथ भी उसका एक फोटो दिखा। प्रदेश सरकार में ऊर्जा मंत्री के साथ भी उसकी फोटो हैं।


Congress Leader Rishabh Bhadauria"," Rishabh Bhadauria Gwalior"," Congress Leader Murder Case"," Gwalior Crime"," Gwalior Crime Rate"," Gwalior Crime News"," Madhya Pradesh Crime Case

Powered by Blogger.