BHOPAL : 22 विधायकों के इस्तीफे के कारण 15 माह पुरानी गिरी कमलनाथ सरकार ,सिंधिया बोले सभी को मिलेगा टिकट


भोपाल । मध्य प्रदेश की कमल नाथ सरकार के तख्ता पलट में मुख्य भूमिका निभाने वाले कांग्रेस के बागी एवं सिंधिया समर्थक 21 पूर्व विधायकों ने शनिवार को दिल्ली में भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। पूर्व विधायक सुरेश धाकड़ बाद में सदस्यता लेंगे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा व केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने इन सभी नेताओं को सदस्यता ग्रहण करवाई। इससे पहले इन सभी ने भाजपा का दामन थाम चुके पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की। सिंधिया ने कहा है कि सभी 22 पूर्व विधायकों को विस उपचुनाव में टिकट दिया जाएगा।

सिंधिया ने नड्डा से परिचय कराया
नड्डा के आवास पर हुए इस कार्यक्रम से कुछ देर पहले ही इन सभी पूर्व विधायकों को विशेष विमान से दिल्ली लाया गया था। इन नेताओं में 18 सिंधिया समर्थक हैं, जबकि चार ने सरकार से नाराज होकर इस्तीफा दिया था। पूर्व विधायक सुरेश धाकड़ की बेटी का निधन हो गया है, इसलिए वह कार्यक्रम में उपस्थित नहीं हुए। सिंधिया ने सभी का नड्डा से परिचय कराया।

12 दिनों से बेंगलुरु में ठहरे थे
ये सभी पूर्व विधायक पिछले 12 दिन से बेंगलुरु के एक होटल में थे। इन 22 विधायकों के इस्तीफे के कारण ही प्रदेश की 15 माह पुरानी कमल नाथ सरकार अल्पमत में आ गई और उसे जाना पड़ा। 21 विधायकों को विशेष विमानों से शनिवार को पहले दिल्ली और वहां से गृह राज्य भोपाल लाया गया।

भाजपा के परिवार का विस्तार : तोमर
भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के कार्यक्रम में मौजूद केंद्रीय पंचायत राज एवं कृषि कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि मप्र में आज भाजपा के परिवार का विस्तार हो रहा है। मप्र में 15 दिन पहले से लंबा सियासी घटनाक्रम चला, जिस कारण ऊहापोह की स्थिति बनी थी। यह सौभाग्य की बात है कि इस कार्यक्रम के साक्षी बनने और मार्गदर्शन देने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा भी मौजूद हैं। तोमर ने कहा कि केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अनिल जैन, कैलाश विजयवगीय, सांसद राकेश सिंह और विधायक अरविंद भदौरिया ने अपनी भूमिका का बेहतर ढंग से निर्वहन किया।

भाजपा में शामिल 21 पूर्व विधायक
इमरती देवी डबरा, रक्षा सिरोनिया भांडेर, ओपीएस भदौरिया मेहगांव, रणवीर जाटव गोहद, प्रद्युम्न सिंह तोमर ग्वालियर, मुन्ना लाल गोयल ग्वालियर पूर्व, रघुराज सिंह कंषाना मुरैना, गिर्राज डंडौतिया दिमनी, जसमंत जाटव करैरा, एदल सिंह कंषाना सुमावली, ब्रजेंद्र सिंह यादव मुंगावली, महेंद्र सिंह सिसौदिया बमौरी, कमलेश जाटव अम्बाह, राज्यवर्धन सिंह बदनावर, गोविंद सिंह राजपूत सुरखी, मनोज चौधरी हाट पिपल्या, बिसाहूलाल सिंह अनूपपुर, प्रभुराम चौधरी सांची, जजपाल सिंह जज्जी अशोक नगर, तुलसी राम सिलावट सांवेर, हरदीप सिंह डंग सुवासरा।

आठ को मंत्री बनाने के प्रयास
बताया जाता है कि प्रदेश में बनने वाली भाजपा की सरकार में सिंधिया समर्थक आठ लोगों मंत्री बनाए जाने के प्रयास चल रहे हैं। प्रदेश में भाजपा की सरकार का रास्ता प्रशस्त करने के एवज में सिंधिया समर्थकों को उपकृत किए जाने की चर्चा है।
Powered by Blogger.