BHOPAL : MP में "कमल या कमलनाथ" : अंकगणित के हिसाब से भाजपा ने बाजी मारने का किया दावा


भोपाल। शुक्रवार को मध्य प्रदेश विधानसभा में होने वाले फ्लोर टेस्ट की तैयारी में भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता देर रात तक जागते रहे। सीहोर के ग्रेसेस रिसॉर्ट में कई दौर की बैठकों के बाद पार्टी ने दावा किया कि उसके सारे विधायक एकजुट हैं। पार्टी ने यह भी कहा कि अब उसे नंबर गेम को लेकर भी कोई डर नहीं है, क्योंकि उसके पास कांग्रेस से काफी अधिक संख्या है।
इधर सीहोर के रिसॉर्ट में दिनभर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह विधायकों के साथ रहे। दिन में सभी ने मिलकर क्रिकेट भी खेला। जहां शिवराज ने बल्लेबाजी की तो वीडी शर्मा ने फिल्डिंग की। सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आने के बाद भाजपा विधायक अपनी जीत के प्रति आशांवित नजर आए। पार्टी विधायकों ने कहा कि अब कमल नाथ का ताज छीनकर 'कमल" का राज आएगा।
क्रिकेट मैच टाई
आमतौर पर राजनेता सियासी खेल में तो माहिर होते हैं पर पिछले दो दिन से भाजपा विधायक क्रिकेट मैच खेलकर अपना टाइम पास कर रहे हैं। सीहोर के होटल ग्रेसेस में गुरुवार को शिवराज बनाम विष्णु दत्त की टीम के बीच 20-20 ओवर का क्रिकेट मैच खेला गया। दोनों ही टीम इसमें 126 रन बनाकर बराबरी पर रहीं।
फिर बात की विधायकों से
इधर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को भी बचे हुए विधायकों के साथ वन-टू-वन बातचीत की। दूसरे दौर में शिवराज ने लगभग 40 विधायकों से बात 
ये है भाजपा का अंकगणित
मध्य प्रदेश की 230 सदस्यीय विधानसभा में फिलहाल दो स्थान रिक्त हैं और स्पीकर एनपी प्रजापति ने कांग्रेस के छह विधायकों के इस्तीफे स्वीकार कर लिए गए हैं। इससे सदस्य संख्या अब 222 बची है। यहां भाजपा के 107, कांग्रेस के 108, बहुजन समाज पार्टी के दो, समाजवादी पार्टी के एक और चार विधायक हैं। लिहाजा बहुमत के लिए 112 विधायकों की जरुरत होगी। कांग्रेस के पास चार विधायक कम हैं और भाजपा पास पांच विधायक कम हैं पर कांग्रेस के जिन 16 अन्य विधायक इस्तीफा दे चुके हैं, उससे सारा अंकगणित भाजपा के पक्ष में है।
बाजी मार सकती है भाजपा
कांग्रेस के पास सपा, बसपा और निर्दलीयों को मिलाकर कुल सात अतिरिक्त् विधायकों का समर्थन हासिल है। यदि यह स्थिति रहती है तो कांग्रेस के पास कुल 115 विधायकों का समर्थन होगा। स्पीकर ने कांग्रेस के छह विधायकों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। अब अगर स्पीकर बाकी 16 बागी विधायकों का फैसला मंजूर करते हैं तो कांग्रेस सरकार गिर जाएगी, क्योंकि तब उसके विधायकों की संख्या सिर्फ 92 रह जाएगी। भाजपा के पास 107 विधायक होंगे। उस स्थिति में सदन में कुल विधायक 206 रह जाएंगे और बहुमत का आंकड़ा 104 पर आ जाएगा। ऐसे में भाजपा फ्लोर टेस्ट में बाजी मार सकती है।
फ्लोर टेस्ट के सारे अंक हमारे पास
पूर्व गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने दावा किया कि सदन के भीतर का अंकगणित भाजपा के साथ है और हर हाल में भाजपा फ्लोर टेस्ट में बाजी मार लेगी सिंह ने उन संभावनाओं को भी खारिज कर दिया, जिसमें कहा जा रहा था कि कुछ भाजपा के विधायक कांग्रेस के खेमे में जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि यदि फ्लोर टेस्ट हुआ तो जिन नारायण त्रिपाठी को लेकर अफवाह का दौर चल रहा है, वह भी भाजपा का साथ देंगे। सिंह ने कहा कि गिले-शिकवे अलग बात है पर त्रिपाठी पार्टी के साथ गद्दारी नहीं करेंगे।
भाजपा-कांग्रेस विधायक दलों ने जारी किया व्हिप
विधानसभा में शुक्रवार को होने वाले विश्वास मत प्रस्ताव पर मतदान के लिए कांग्रेस एवं भाजपा विधायक दल ने थ्री लाइन व्हिप जारी कर दिया है। कांग्रेस विधायक दल के मुख्य सचेतक डॉ. गोविंद सिंह की ओर से गुरुवार देर रात जारी व्हिप में पार्टी विधायकों को सदन में उपस्थित रहने और बहुमत के विश्वास प्रस्ताव पर सरकार के पक्ष में अनिवार्य रूप से मतदान करने के निर्देश दिए हैं। वहीं भाजपा विधायक दल के मुख्य सचेतक डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने व्हिप जारी करते हुए पार्टी के सभी विधायकों को सदन में अनिवार्य रूप से उपस्थित रहने व विश्वास मत के विरोध में हाथ उठाकर अनिवार्य रूप से मतदान करने के निर्देश दिए हैं।
Powered by Blogger.