BHOPAL : मध्य प्रदेश में फिर से शिवराज राज? बन सकते हैं चौथी बार सीएम


शिवराज सिंह चौहान के चौथी बार मध्यप्रदेश सीएम के रूप में वापसी कर सकते हैं। भाजपा के लिए ये एक संजीवनी से कम नहीं है। 2018 के बाद पार्टी ने एक के बाद एक कई राज्यों से सत्ता गंवाई थी। लोकसभा चुनावों के बाद झारखंड और महाराष्ट्र से भी बीजेपी ने सत्ता गंवा दी थी. मध्य प्रदेश में सरकार की वापसी बीजेपी को कुछ राहत जरुर देगी।

भोपाल मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार के गिरने के बाद राज्य में बीजेपी की फिर से वापसी तय है। सीएम पद पर राज्य के दिग्गज नेता और पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान का नाम सबसे आगे है। माना जा रहा है शीर्ष नेतृत्व चौहान के नाम पर मुहर लगा सकता है।

शिवराज का होगा राज
अब सवाल ये उठता है कि बीजेपी राज्य का सीएम किसको बनाएगी। कमलनाथ सरकार गिरने के बाद बीजेपी के कई नेताओं ये सवाल किया गया लेकिन सभी ने एक ही जवाब दिया कि इसका फैसला पार्टी आलाकमान करेगा लेकिन अब जो खबर आ रही है, उसमें बताया जा रहा है कि शिवराज सिंह चौहान ही प्रदेश की सत्ता संभालेंगे।

भाजपा के लिए संजीवनी
शिवराज सिंह चौहान के चौथी बार मध्यप्रदेश के सीएम के रूप में वापसी कर सकते हैं। भाजपा के लिए ये एक संजीवनी से कम नहीं है। 2018 के बाद पार्टी ने एक के बाद एक कई राज्यों से सत्ता गंवाई थी। लोकसभा चुनावों के बाद झारखंड और महाराष्ट्र से भी बीजेपी ने सत्ता गंवा दी थी. मध्य प्रदेश में सरकार की वापसी बीजेपी को कुछ राहत जरुर देगी।

मामा से ज्यादा कोई लोकप्रिय नहीं
राज्य में शिवराज को "मामा" कहा जाता है। साल 2018 में हुए विधानसभा चुनावों शिवराज सिंह सत्ता नहीं बचा पाए थे। पार्टी के भीतर कुछ असामनता की स्थित और अपर कास्ट जाति के विद्रोह के कारण शिवराज की सत्ता यहां से चली गई।

राज्य के बड़े नेतोओं में शुमार चौहान
वसुंधरा राजे, रमन सिंह के साथ, चौहान लंबे समय से राज्य के सबसे बड़े नेता रहे हैं। शिवराज बार-बार जीत हासिल करते रहे और मप्र को एक ऐसे राज्य के रूप में स्थापित किया जिसने कृषि और रोडवेज में सराहनीय प्रगति की है। हालांकि चौहान को एक निर्धारित नेता और घटनाओं में एक प्रमुख प्रस्तावक के रूप में देखा जाता है, जिसके कारण ज्योतिरादित्य सिंधिया का विद्रोह हुआ जिसने कमलनाथ सरकार को गिरा दिया।

अभी आधिकारिक पुष्टि नहीं
हालांकि बीजेपी की ओर से सीएम कौन होगा, इसके बारे में कुछ भी स्पष्ट नहीं कहा है, लेकिन इस कुर्सी के लिए शिवराज सिंह चौहान का नाम सबसे आगे देखा जाता है। सीएम पद के लिए कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और राज्य के एक पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा का भी उल्लेख किया गया है, लेकिन विधायकों के साथ अपने समीकरण और पूरे मप्र में उनकी छवि को देखते हुए चौहान अभी भी नंबर वन पसंदीदा बने हुए हैं।

22 सीटों पर उपचुनाव होगी कड़ी अग्निपरीक्षा
चौहान को भाजपा में कई लोगों ने कांग्रेस के बागियों द्वारा खाली की गई 22 सीटों पर उपचुनाव के साथ पार्टी का नेतृत्व करने के लिए सबसे अच्छी पसंद के रूप में देखा है। इन सीटों को जीतना कमलनाथ और सिंधिया के राजनीतिक कौशल की परीक्षा होगी और अनुभवी प्रचारक को भी इस काम में लगाया जाएगा।

अहम वक्त पर वापसी
यह दिलचस्प है कि चौहान की वापसी ऐसे समय में हो सकती है जब दिल्ली में हाल ही में विधानसभा चुनाव में राज्य के नेताओं की आवश्यकता पर चर्चा हुई। कहा जाता है कि राज्य के चुनावों में पीएम मोदी पर निर्भर रहने वाले राज्य के नेता हमेशा चालबाजी नहीं करेंगे।

मिलनसार नेता की पहचान
मध्य प्रदेश के पूर्व एवं भावी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वही किया जो उनकी छवि है- एक मिलनसार नेता की। शिवराज ने अपने विरोधी और निवर्तमान मुख्यमंत्री कमलनाथ के घर जाकर उनसे मुलाकात की। दिलचस्प बात यह है कि शिवराज के नेतृत्व में ही बीजेपी ने न केवल प्रदेश कांग्रेस पार्टी में बड़ा सेंध लगाकर ज्योतिरादित्य सिंधिया को तोड़ लिया, बल्कि कमलनाथ की सरकार भी गिरा दी।

Powered by Blogger.