CORONAVIRUS : अमेरिका में फंसे भारतीय छात्रों के लिए फ्री में रहने की पेशकश कर रहे भारतीय-अमेरिकी बिजनेसमैन


वाशिंगटन। भारतीय-अमेरिकी समुदाय उन भारतीय छात्रों की मदद के लिए आगे आया है, जो कोरोनावायरस या COVID-19 के चलते भारत में हुए लॉक डाउन की वजह से संयुक्त राज्य अमेरिका में फंसे गए हैं। भारतीय होटल व्यवसायियों और छोटे कारोबारियों के एक समूह ने अमेरिका में फंसे उन भारतीय छात्रों को अपने होटल और घरों में फ्री में रहने की पेशकश की है। बताते चलें कि इस संक्रामक संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल तक पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा कर दी है।
इसे देखते हुए अमेरिका के होटल व्यवसायियों ने सबसे पहले एक सोशल नेटवर्किंग ग्रुप के जरिये इस बारे में विचार किया, जिसमें केवल चार सदस्य शामिल थे। मगर, इस आईडिया को धीरे-धीरे अन्य होटल व्यवसाइयों ने भी अपना समर्थन दिया और भारत में हुए लॉक डाउन की वजह से स्वदेश लौटने में असमर्थ भारतीय छात्रों की मदद के लिए भारतीय मूल के इन अमेरिकी व्यवसाइयों ने अपने दरवाजे खोल दिए।
लॉस एंजिल्स से हवाई और न्यूयॉर्क तक, भारतीय-अमेरिकी समुदाय ने 5,000 से अधिक कमरों में भारतीय छात्रों के मुफ्त ठहरने की पेशकश की है। अमेरिका में भारतीय दूतावास, भारतीयों नागरिकों के लिए चौबीसों घंटे की एक हेल्पलाइन चला रहा है। जो कोई भी सत्यापन के बाद भारतीय मिशन से संपर्क करता है, वह ठहरने के लिए इन होटल मालिकों से संपर्क कर सकता है।
बोस्टन स्थित एक होटल व्यवसायी, नीरव पटेल ने एएनआई को बताया कि उन लोगों को भारतीय दूतावास की हेल्पलाइन पर संपर्क करना होगा। इसके बाद होटल मालिकों और होटलों से भारतीय दूतावास संपर्क करेगा, जो इस मुहिम में अपना कमरा दे रहे हैं। सूचना मिलने के बाद हम उन्हें आश्रय प्रदान करेंगे।

अमेरिका में भारत के राजदूत, तरनजीत सिंह संधू ने एक ट्वीट में कहा- यह देखकर खुशी होती है कि भारतीय, भारतीय-अमेरिकी और अन्य होटल मालिक इस कठिन समय में आवास के साथ लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। हम एक साथ मिलकर इस COVID-19 की आपदा से पार पा सकते हैं।
Powered by Blogger.