REWA : अब दो राष्ट्रीय राज्यमार्ग को जोड़ने रतहरा से चोरहटा 19 किलोमीटर बनेगी फोरलेन सडक़


रीवा। रतहरा से चोरहटा 19 किलोमीटर फोरलेन सडक़ बनेगी। इसके लिए राष्ट्रीय राज्यमार्ग लोक निर्माण विभाग ने प्रस्ताव भेज दिया है। 16 अप्रैल के बीओटी योजना की अवधि समाप्त होने के बाद फोरलेन बनाने का रास्ता साफ हो गया है। सडक़ में वाहनों को दबाव देखते हुए जल्द ही इसकी स्वीकृत मिल सकती है।

बताया जा रहा है कि दो राष्ट्रीय फोरलेन राष्ट्रीय राज्यमार्ग को जोडऩे वाला इकलौता यही बायपास टू लेन है। ऐसे में वाहनों की संख्या को देखते हुए इसे जल्द से जल्द फोरलेन बनाया जाना है। वर्ष 2005 में बीओटी योजना बने इस बायपास का समय पूरा नहीं होने से फोरलेन बनाने स्वीकृत नहीं मिल पाई है। जबकि मनगवां -चाकघाट, रीवा- हनुमना एवं बेला- सतना, बेला जबलपुर फोरलेन सडक़ों की स्वीकृत वर्ष 2013 में मिली है। इन फोरलेन सडक़ के बीच यही एक बायपास अब टू लेन है। वर्तमान में इस बायपास में पांच हजार से अधिक भारी वाहनों को दबाव है। इसे देखते हुए राष्ट्रीय लोक निर्माण विभाग ने इस सडक़ को फोरलेन बनाने प्रस्ताव भूतल परिवहन विभाग को भेज दिया है। बताया जा रहा है कि इसकी स्वीकृत भी जल्द बनेगी। 

बगल से बनेगा एक और बायपास

रतहरा से चोरहटा में बापयास से संचालन प्रभावित नहीं हो, इसके लिए बायपास के बगल में एक और टू लेन बायपास बनेना का प्रस्ताव भेजा गया है। एन एच का दावा है कि फोरलेन बनाने के पर्याप्त जमीन पहले से ही उपलब्ध है। एेसे में डीपीआर बनाने के बाद इसका निर्माण शुरु किया जाएगा। बगल में एक बापयास और स्वीकृत हुआ तो टू लेन से फोरलेन बनाने में कोई ज्यादा डिजाइन में परिवर्तन नहीं करना पड़ेगा, और यातायात का संचालन भी बाधित नहीं होगा।

1358 स्वीकृत का प्रस्ताव अटका

बायपास बनाने वाली कंपनी ने 1358 दिनों का टोल वे और बढ़ाने की प्रस्ताव भेजा है लेकिन इस पर अभी भूतल परिवहन विभाग से अनुमति नहीं मिली है। ऐसे में 16 अप्रैल के बाद कंपनी टोल वसूल नहीं कर पाएगी। कंपनी बायपॉस में लागत अधिक लगाने के कारण है टोल वृद्धि के लिए दावा ठोक रही है।
Powered by Blogger.