REWA : 3 साल में युवती को सांप ने 8 बार डसा, हर बार बची जान, जानिए कैसे हो रहा यह चमत्कार


रीवा. यह किसी चमत्कार से कम नहीं है कि एक युवती को लगातार सांप ने आठ बार डसा और उसकी जान बच गई। गांव वाले जहां इसको चमत्कार मान रहे हैं वहीं चिकित्सकों एवं जानकारों का कहना है कि सांप जहरीला नहीं है और समय पर इलाज मिलने से ही युवती की जान बच रही है। लेकिन लोगों में यह जिज्ञासा का विषय है कि आखिर सांप उसी युवती को बार-बार क्यों डस रहा है। इसको लेकर कई सवाल उठाए जा रहे हैं। हालांकि परिजन इस संबंध में कुछ भी नहीं बता पा रहे हैं। पूरा परिवार सांप के आतंक से दहशत में है।

यह घटना हनुमना थाना क्षेत्र की है। यहां रहने वाली युवती के साथ सर्पदंश की घटना करीब 3 साल पूर्व शुरू हुई थी। घटना की जानकारी परिजनों को हुई तो वे बदहवास हालत में युवती को अस्पताल लेकर आए। जहां इलाज के बाद उसकी हालत ठीक हो गई। उसके बाद से सांप, युवती को आठ बार डस चुका है। अभी तक सांप ने परिवार के किसी अन्य सदस्य को कोई चोट नहीं पहुंंचाई है।

सांप आखिर युवती पर बार-बार हमला क्यों कर रहा है यह परिजनों के समझ में भी नहीं आ रहा है। घर वाले इस बात को लेकर काफी परेशान है। हैरानी की बात तो यह है कि उस सांप को आज तक किसी ने नहीं देखा है। युवती को डसने के बाद वह गायब हो जाता है और उसके शरीर में सीर्फ सांप के दातों के निशान मौजूद रहते हैं।

सांप ने आठवीं बार मंदिर में डसा
युवती को दो दिन पूर्व आठवीं बार सांप ने मंदिर में डस लिया है। युवती मंदिर में फूल चढ़ाने के लिए गई थी। वह पुराने फूल भगवान के ऊपर उतार रही थी, तभी मूर्ति के पास छिपे सांप ने युवती के हाथ में डस लिया था। घटना की जानकारी होने पर परिजन उसे उपचार के लिए मऊगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर आए जहां प्राथमिक उपचार के बाद उसे संजय गांधी अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है। युवती की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही हैं।

परिजनों को भी मालूम है दवाई 
लगातार युवती का सर्पदंश के बाद इलाज करवा रहे परिजन अब दवाई से भी वाकिफ हो गए हैं। युवती को अस्पताल लाने के पूर्व वे बाजार से दवाई भी खरीद लेते हैं और इंजेक्शन लेकर अस्पताल पहुंचते हैं। जहां तत्काल चिकित्सक इंजेक्शन लगाकर युवती की जान बचा लेते हैं। परिजनों की माने तो इंजेक्शन लगते ही युवती की हालत ठीक हो जाती हैं। पूरी तरह स्वस्थ होने में 4 से 5 दिन का समय लगता है।

हमारी बहन को सात से आठ बार सांप डस चुका है। लगातार यह घटना होने से हम लोगों को विश्वास है कि वही सांप काट रहा है। दो दिन पूर्व बहन मंदिर में फूल चढ़ाने गई थी जहां उसे सांप ने डस लिया था। हम लोगों को दवाई मालूम थी, बाजार से खरीदकर दवा अस्पताल लाये थे और इंजेक्शन लगाने के बाद चिकित्सकों ने उसे संजय गांधी अस्पताल के लिए रेफर कर दिया है। उसकी हालत ठीक है। 

श्रेयस मिश्रा, पीडि़त युवती का भाई 

सर्पदंश पीडि़ता को उपचार के लिए अस्पताल लाया गया था। प्राथमिक उपचार के बाद उसको संजय गांधी अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया था। परिजन उसे रीवा लेकर चले गए थे। परिजनों ने उसको बार-बार सांप के डसने की जानकारी दी है।

डॉ. पंकज सिंह गहरवार, बीएमओ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मऊगंज

सांप जहरीला नहीं होगा
जिस घटना की बात सामने आ रही है, इसके कई दूसरे पहलू भी हो सकते हैं। जहां तक सांपों की प्रवृत्ति का सवाल है तो उनकी याददास्त इतने अधिक समय तक नहीं रहती कि किसी एक व्यक्ति को अपना दुश्मन मानकर उसे काटें। सांप अपने एक निश्चित दायरे में रहते हैं तो हो सकता है कि उस क्षेत्र में लड़की कई बार सामने आई हो और उसे काटा गया हो। ऐसा भी हो सकता है कि दूसरे सांप या अन्य कीटों ने भी पहले काटा हो। जहां तक जहर नहीं फैलने की बात है तो कई बार जहरीले सांप भी केवल दांत से काटते हैं लेकिन जहर नहीं छोड़ पाते। वहीं अधिकांश सांप जहरीले नहीं होते हैं।
डॉ. राजेश सिंह तोमर, विशेषज्ञ चिडिय़ाघर मुकुंदपुर
Powered by Blogger.