REWA : रीवा में हर माह 50 लाख की नशीली सिरप का काला कारोबार : नवयुवक बन रहे निशाना


रीवा। मप्र के रीवा जिले में फैला नशीली सिरप का काला कारोबार भयावह रूप लेता जा रहा है। इतनी बड़ी मात्रा में नशीली सिरप रीवा में खपत हो रही है जो खुद अपने आप में हैरान कर देने वाली है। ऐसा नहीं है कि पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है लेकिन तस्कर पुलिस की नजरों से बचकर माल ठिकाने लगाने में कामयाब हो जाते हैं।

जिले में नशीली सिरप का नेटवर्क मोहल्लों से लेकर देहात तक इस कदर जड़े जमा चुका है कि उसे तोडऩा अब आसान नहीं रहेगा। जिले में सबसे ज्यादा नशीली शराब की तस्करी इस समय उत्तर प्रदेश से हो रही है। वहां नशीली शराब की बिक्री पर प्रतिबंध नहीं है।

यही कारण है कि बड़ी आसानी से तस्करों को नशीली सिरप वहा मिल जाती है। यूपी से फोरव्हीलर वाहन नशीली सिरप लोड कर तस्कर आसानी से रीवा पहुंच जाते हैं। पुलिस ने यूपी से लाई गई करीब 15 बड़ी खेप पकड़ी है। इसके अतिरिक्त भोपाल से हुई नशीली सिरप पुलिस की आंखों से बचाकर रीवा लाई जाती है।

जिले में हर माह नशीली सिरप का काला कारोबार 50 लाख से अधिक का बताया जा रहा है। शहर के मोहल्लों के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में भी तस्कर सिरप बेचते हैं। वर्तमान में नशीली सिरप सबसे अधिक युवाओं को बर्बाद कर रहा है। नशीली सिरप के खिलाफ पुलिस द्वारा भी लगातार कार्रवाई की जाती है और कई बड़ी खेप भी पकड़े गए हैं लेकिन तस्करों के कदम नहीं रुके।

गत वर्ष पकड़ी गई थी 3 करोड़ कीमत की नशीली सिरपरू गत वर्ष पुलिस ने नशीली सिरप के खिलाफ व्यापक अभियान चलाया था। जिले के विभिन्न थानों में 3 करोड़ से अधिक की नशीली सिरप पकड़ी थी। कई बड़ी खेत पुलिस ने पकड़ी थी। इतनी बड़ी मात्रा में नशीली सिरप का पकड़ा जाना खुद इसके कारोबार का खुलासा कर रहा है।

मुनाफा तस्करों को करता है आकर्षित

नशीली सिरप की बिक्री में मुनाफा तस्करों को आकर्षित करता है। दरअसल थोक रेट में नशीली से की एक शीशी 60 से 70 में पड़ती हैं जबकि उसे फुटकर में तस्कर 150 रुपए से लेकर 200 तक बेचते हैं। 2 गुना अधिक फायदा नशीली सिरप के कारोबार में रहता है। यही कारण है कि काफी संख्या में तस्कर नशीली सिरप का कारोबार करते हैं।

स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाती है नशीली सिरप

नशीली सिरप सेवन करने वाला व्यक्ति मानसिक रूप से बीमार हो जाता है। सेवन करने के बाद उसका दिमाग सामान्य नहीं रहता और कई बार वह बड़ी घटनाएं कर देता है।

नशेड़ी सिरप सेवन करने वाले को शारीरिक दृष्टि से कमजोर बनाते हैं। यह शरीर को अंदर से खोखला करती हैं और आदमी का शरीर काफी कमजोर हो जाता है।

नशीली शराब का सेवन करने वाले व्यक्ति के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती हैं और उसे बीमारियां जल्दी चपेट में लेती हैं।

कहां.कहां पुलिस की कार्रवाई

बैकुंठपुर पुलिस कस्बे में दबिश देकर 8 पेटी नीरी सिरप पकड़ी जिसमें एक आरोपी को गिरफ्तार किया था।
मनगवा पुलिस ने चमन चौराहे के समीप फोर व्हीलर में लोड 8 पेटी नशीली सिरप पकड़ी थी जिसमें पिता पुत्र के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था।

सोहागी पुलिस ने कार में लोड 1400 शीशी नशीली सिरप पकड़ी थी जिसमें दो आरोपी गिरफ्तार हुए थे।सोहागी पुलिस ने प्रयागराज से लाई जा रही 750 शीशी नशीली सिरप फोर व्हीलर गाड़ी में पकड़ी थी। बिछिया पुलिस ने महाजन टोला में दबिश देकर 590 शीशी नशीली सिरप बरामद की थी। पुलिसने कार्रवाई एक खंडहर मकान में की थी।
Powered by Blogger.