REWA : जिले में PHE के 500 से अधिक हैंडपंप बंद : 64 नलजल योजनाएं बंद, 10 के सूखे जलस्रोत


रीवा. जिले में आला अफसरों की अनदेखी के चलते ग्राम पंचायतों में पेयजल संकट से निपटने के ठोस इंतजाम नहीं है। हैरानी की बात तो यह कि एक मार्च की स्थित में 64 से अधिक नलजल परियोजनाएं बंद पड़ी हैं। इतना ही नहीं सिंगल फेज की ग्राम पंचायतों में स्थापित 78 पंप दो साल से बंद पड़े हैं। जब अभी यह हाल हैं तो अप्रैल-मई और जून की भीषण गर्मी में ग्रामीण क्षेत्र में लोगों के कंठ कैसे तर हो सकेंगे। दिलचस्प बात तो यह कि 500 से ज्यादा हैंडपंपों में सामान्य खराबी दूर नहीं कर सके। जबकि जिले में ब्लाक स्तर पर पीएचई का अमला पदस्थ है। पेयजल की समस्या को लेकर अफसर कार्यालय में चर्चा कर रहे हैं। लेकिन, फील्ड में बंद पड़ी परियोजनाओं को लेकर सक्रिय नहीं हैं।

त्योंथर क्षेत्र में नलजल की 16 परियोजनाएं बंद पड़ी
पीएचई विभाग ने जिला प्रशासन को सूचना दिया कि रीवा, गंगेव, सिरमौर और जवा में नलजल की 8-8 परियोजनाएं बंद पड़ी हैं जबकि रायपुर कर्चुलियान में 9 परियोजनाएं लंबे समय से पानी नहीं दे रहीं हैं। इसी तरह मऊगंज जोन में अकेले त्योंथर क्षेत्र में नलजल की 16 परियोजनाएं बंद पड़ी हैं। जबकि नईगढ़ी व हनुमना में दो-दो और मऊगंज में 3 परियोजनाएं पानी नहीं दे रहीं हैं। हैरान करने वाली बात तो यह कि नईगढ़ी में दो परियोजनाएं बिजली कनेक्शन के कारण चालू नहीं हो पा रही है। त्योंथर में पांच परियोजनाओं की मोटर खराब होने के कारण काम नहीं कर रहीं हैं।

रीवा जोन में 41 नलजल परियोजनाओं की पाइप लाइन क्षतिग्रस्त
ज्यादातर नलजल परियोजनाओं की पाइप लाइन क्षतिग्रस्त हो गई हैं। सबसे ज्यादा रीवा जोन में 41 नलजल परियोजनाओं की पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने के कारण पेयजल व्यवस्था पटरी से उतर गई है। इसी तरह मऊगंज जोन में नईगढ़ी, त्योंथर और हनुमना क्षेत्र में पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने से 6 परियोजनाओं की सप्लाई ठप पड़ी है। जबकि इसी जोन में 10 परियोजनाओं के जलस्रोत सूख गए हैं। सबसे ज्यादा त्योंथर में 7 नलजल परियोजनाएं पानी देना छोड़ दिया है। जिले में पंद्रह मार्च यानी होली त्योहार के बाद जलस्तर नीचे खिसकने लगता है। जिससे पेयजल का संकट बढ़ जाता है। अधिकारियों का दावा है कि रीवा जोन में 246 नलजल परियोजनाओं में से 205 चालू हैं। 


रीवा जोन में सबसे ज्यादा 66 पंप बंद

जिले के रीवा जोन में सबसे अधिक सिंगल फेस के पंप बंद पड़े हैं। रीवा व मऊगंज जोन को मिलाकर कुल 955 सिंगल फेस के पंप स्थापित किए गए हैं। जिसमें 78 खराब पड़े हैं। इसके अलावा दर्जनों की संख्या में मामूली कमी से बंद पड़े हैं। रायपुर कर्चुलियान, सिरमौर और गंगेव में सबसे ज्यादा सिंगल फेस के पंप काम नहीं कर रहे हैं। इसी तरह मऊगंज जोन में 12 सिंगल फेस के पंप काम नहीं कर रहे हैं। 


पीएचई के 500 से ज्यादा हैंडपंप में सामान्य खराब दूर नहीं कर सके जिम्मेदार

जिले में पीएचई विभाग के आंकड़े में 30 हजार से ज्याद हैंडंपप स्थपित किए गए हैं। जिसमें 500 से अधिक हैंडपंप में सामान्य खराब के कारण पानी नहीं निकल रहा है। इसी तरह 171 हैंडपंप ऐसे हैं जिनका सुधार के लिए अधिकारियों ने हाथ खड़े कर दिया है।
Powered by Blogger.