REWA LOCKDOWN : मजदूरों की मदद के लिए आगे आई पुलिस ,पहले पेटभर खाना खिलाया, फिर बसों से भेजा घर


रीवा. कोरोना वायरस के चलते देश में लॉक डाउन का सबसे अधिक असर दिहाड़ी मजदूरों पर पड़ा है। काम बंद होने के कारण इनकी आय बंद हो गई है। खाने-पीने की व्यवस्था नहीं होने से वह घरों की ओर लौट रहे है। बसें व ट्रेन बंद होने के कारण पैदल ही लोग चल रहे हैं। शुक्रवार को ट्रैफिक पुलिस ने इन मजदूरों को रेलवे स्टेशन में खाना खिलाया है। इसके बाद बस से छत्तरपुर के लिए रवना किया है।

काम बंद होने से खाने-पीने का संकट 
बताया जा रहा है कि जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना में काम करने के लिए ठेकेदार इन मजदूरों का छतरपुर से लाया था। लेकिन काम बंद होने के कारण पिछले तीन दिनों से अब इनके पास खाने-पीने का संकट खड़ा हो गया था। ऐसे में यह मजदूर पैदल ही छतरपुर के लिए चल दिए। यह जानकारी मिलने पर ट्रैफिक डीएसपी मनोज वर्मा ने इन सभी मजदूरों को रेलवे स्टेशन में रात में रुकवा दिया। इसके बाद इसकी जानकारी पुलिस अधीक्षक को दी। एसपी आबिद खान ने इन मजदूरों का छतरपुर भेजने के निर्देश दिए है। इसमें परिवहन विभाग ने रीवा से छतरपुर के लिए बस उपलब्ध कराई है। रेलवे स्टेशन में इन मजदूरों व उनके परिवारों को पहले खाना खिलाया गया। साथ ही बच्चों को रास्ते में पैकेट उपलब्ध कराने के बाद रवाना किया गया। बताया गया है कि बड़ी संख्या में मजदूर पैदल अपने घर जा रहे है। जानकारी मिलने पर इनकी व्यवस्था स्थानीय स्तर पर प्रशासन कर रहा है।
Powered by Blogger.