REWA : कमिश्नर की सूझ-बुझ से महिला की बची जान ,अपने वाहन से भेजा SGMH : जानिए क्या है मामला


रीवा. कमिश्नर डॉ. अशोक कुमार भार्गव की संवेदनशीलता से सर्पदंश पीडि़त महिला की जान बच गई। उपचार सहायता समय पर मिल गई जिससे उसकी जान बच गई। सतना भ्रमण से लौटते समय रामबपुर बघेलान में एक बाइक पर इलाज के इंतजार में तड़प रही महिला को फौरन कमिश्नर ने अपने शासकीय वाहन से पीडि़त महिला को संजय गांधी हास्पिटल भेजवाकर उपचार की पूरी व्यवस्था कराई। उन्होंने डीन डॉ. एपीएस गहरवार को पीडि़त महिला के उपचार के संबंध में निर्देश दिए। महिला को अस्पताल में भर्ती करके जांच के बाद आवश्यक दवाएं दी गई हैं।

कमिश्नर की परेशान पीडि़त महिला पर पड़ी नजर

कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए पूरे प्रदेश के साथ-साथ रीवा संभाग के सभी जिलों में 14 अप्रैल तक प्रतिबंधात्मक आदेश लागू किए गए हैं। रीवा संभाग के कमिश्नर तथा पुलिस महानिरीक्षक चंचल शेखर के साथ लॉकडाउन का जायजा लेने के लिए सतना जिले के भ्रमण पर गए थे। भ्रमण से लौटते समय रामपुर बघेलान तथा बेला के मध्य एक मोटरसाइकिल पर महिला सहित तीन व्यक्ति सवार थे। उनकी मोटर साइकिल बड़ी मुश्किल से चल पा रही थी। कमिश्नर ने अपनी गाड़ी रोककर उनसे प्रतिबंध के समय मोटसाइकिल में जाने का कारण पूछा। मोटर साइकिल चलाने वाले सत्यभान सिंह ने बताया कि वे सतना जिले के छिबौरा गांव के रहने वाले हैं। उनके साथ जो महिला है उसका नाम सविता सिंह 21 वर्ष पत्नी राजभान सिंह हैं। इसे घर में काम करते हुए सांप अथवा किसी जहरीले कीट ने काटा है। इसे उपचार के लिए रीवा लेकर जा रहे हैं। अन्य वाहन उपलब्ध न होने के कारण आपातकालीन स्थिति में पीडि़ता की जान बचाने के लिए उसे मोटर साइकिल पर लेकर रीवा जा रहे हैं।

कमिश्नर ने पीडि़त महिला को अपने वाहन से भेजा

कमिश्नर ने पीडि़त महिा सविता सिंह को तत्काल अपने शासकीय वाहन से संजय गांधी अस्पताल रीवा भिजवाया। साथ ही उन्होंने अस्पताल के मेडिकल कालेज के डीन को पीडि़त महिला के समुचित उपचार के निर्देश दिए। समय पर वाहन सुविधा तथा उपचार सुविधा मिल जाने से पीडि़ता की जान बची। उसके परिजनों ने इस सहायता और मानवीयता के लिए कमिश्नर का हृदय से आभार व्यक्त किया।

Powered by Blogger.