प्लांट से हुआ जहरीली गैस का रिसाव 8 लोगो की मौत, 20 की हालत गंभीर, सैकड़ो हुए भर्ती : 3 KM का क्षेत्र प्रभावित


गैस का रिसाव 3 किलोमीटर के क्षेत्र में फैला 8 लोगो मे मौत हुई 20 लोगो की हालत गंभीर 150-170 लोगो को भर्ती कराया गया पीवीसी स्टेरेन गैस के रिसाव के कारण हुआ हादसा कई हजारो लोग गैस के कारण प्रभावित हुए प्लांट के अगल-बगल के कई गांव खाली कराए गए. 




आंध्र प्रदेश में विशाखापट्टनम के ग्राम आरआर वेंकटापुरम गांव में एलजी पॉलिमर इंडस्ट्री केमिकल प्लांट से जहरीली गैस के रिसाव होने से 8 लोगों की मौत हो गई है ।

एक अनुमान के मुताबिक जहरीली गैस के रिसाव में 5000 लोगों के इसके चपेट में होने की संभावना है गंभीर हालात में लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा हैमृतकों का आंकड़ा बढ़ने की संभावना है. ३ किलोमीटर के क्षेत्र को खाली कराया गया है. 

                                                                                    

डॉक्टर, फायर ब्रिगेड, पुलिसकर्मी सभी बचाव कार्य मे जुट चुके हैं गैस रिसाव के चलते सिर में दर्द, उल्टी, आंखों में जलन और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के बाद लोगों को अस्पताल ले जाया जा रहा है। मौके पर पुलिस और फायर ब्रिगेड की टीम पहुंची हुई है। बताया जा रहा है कि कई लोग अस्पताल में भर्ती किए जा रहे हैं।

गोपालपट्टनम के एलजी पॉलीमर्स लिमिटेड में आज सुबह करीब 3 बजे यह हादसा हुआ, जब उस वक्त आसपास की कॉलोनियों के लोग सो रहे थे।



                                 जहरीली गैस का रिसाव इतना खतरनाक था कि लोग अपने घरों में ही बेहोश हो गए



             हवा में थैली जहरीली गैस लोग सहन नहीं कर पाए और रास्ते में ही चलते चलते सड़कों पर ही भरभरा कर गिर पड़े



सड़कों रास्तों गलियारों में जैसे जैसे लोग प्रभावित होकर गिर रहे थे पुलिस और सेना के जवान तत्काल तत्परता दिखाते हुए उन्हें उठाकर अस्पताल एंबुलेंस की ओर ले जाती नजर आ रहे थे. इस गैस का प्रभाव बच्चे बूढ़े और खास रूप से हुआ और कई जगह तो जानवर भी इसकी चपेट में आते दिखे



शहरी जिला प्रशासन ने भी अपनी तत्परता दिखाई सैकड़ों एंबुलेंस प्रभावित क्षेत्रों में नजर आईं जिससे जहरीली गैस के प्रभाव में आए हुए लोगों को तुरंत एंबुलेंस के माध्यम से पहुंचाया जाने लगा. 


                                               

रात्रि 3:00 से 3:30 बजे गैस का रिसाव हो ना चालू हुआ था हालांकि कुछ ही घंटों में, डॉक्टरों की तत्परता फायर ब्रिगेड हुआ पुलिस के सहयोग से स्थितियों पर काबू पाया जा चुका है 1961 में हिंदुस्तान पॉलीमर्स के नाम से यह प्लांट चालू किया गया था 1978 में यूबी ग्रुप के मैकडावल एंड कंपनी लिमिटेड में हिंदुस्तान पॉलीमर्स का विलय हो चुका था. 

Powered by Blogger.