BHOPAL : CM शिवराज के भाई 500 डंपर का अवैध रूप से करवा रहे रेत खनन का कारोबार : निदेर्शों की उड़ाई जा रही धज्जियां


भोपाल। पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने शिवराज सिंह चौहान के मुख्यमंत्री बनने के बाद उनके संरक्षण में पुन: नर्मदा में मशीनों के माध्यम से अवैध रेत उत्खनन व अवैध परिवहन शुरू हो जाने का गंभीर प्रामाणिक आरोप लगाया है। अपने आरोपों को लेकर अरुण यादव ने वीडियो भी जारी किए हैं।

उन्होंने कहा कि रायसेन जिले के बाड़ी की गोरा मछुराई स्थित रेत खदान में मुख्यमंत्री के दो भाइयों और उनके एक सेवानिवृत रिश्तेदार पुलिस अधिकारी यहां खुलेआम रेत का अवैध कारोबार करवा रहे हैं। यादव ने कहा कि रोज करीब 500 डंपर बिना रॉयल्टी चुकाए अवैध कार्य को अंजाम दे रहे हैं।

500 डंपर के अवैध उत्खनन

यादव ने कहा कि प्रदेश में नई रेत उत्खनन नीति के बाद राज्य में खदानों के समूह बनाकर नीलामी की गई थी, जिसमें उक्त खदान भी शामिल है। रायसेन जिले की नर्मदा नदी की रेत खदानों का ठेका किसी राजेन्द्र रघुवंशी की फर्म को मिला है। ठेकेदार व माइनिंग कॉपोर्रेशन के साथ अनुबंध होने के पहले रॉयल्टी जारी नहीं कि जा सकती है।

लिहाजा, बिना अनुबंध किए गोरा मछुराई की नर्मदा नदी से प्रतिदिन 500 डंपर अवैध उत्खनन, परिवहन बिना रॉयल्टी चुकाए कैसे, किसके संरक्षण में और किसके द्वारा किया जा रहा है, वह भी लॉक डाउन अवधि में यादव ने यह भी कहा कि पूर्ववर्तीय शिवराज सरकार के दौरान ही नर्मदा नदी को जीवित नदी माना गया है।

हाल ही में इसी मुद्दे को उठाते हुए कृषि मंत्री कमल पटेल ने भी कलेक्टर होशंगाबाद को लिखे एक पत्र में कहा है कि नर्मदा एक जीवित नदी है, इसलिए इस नदी से अवैध उत्खनन, परिवहन करने वालों के विरुद्ध हत्या का प्रकरण दर्ज हो, आखिरकार क्या कारण है कि यहां मंत्री के निदेर्शों की धज्जियां उड़ाई जा रही है।



Powered by Blogger.