CORONA : इटली का दावा, दुनिया के लिए कोरोना से राहत की उम्मीद


रोम। इटली ने दावा किया है कि उसने दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्सीन विकसित कर ली है, जो मनुष्यों पर काम करता है। विभिन्न मीडिया रिपोर्ट्स में बुधवार को इस बारे में खबर दी गई है। कथित तौर पर रोम के संक्रामक-रोग स्पल्नजानी अस्पताल में इस वैक्सीन के परीक्षण किए गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना वायरस वैक्सीन में चूहों में उत्पन्न किए गए एंटीबॉडी हैं, जो मानव कोशिकाओं पर काम करते हैं।
नागरिक सुरक्षा एजेंसी ने कहा कि इटली में covid -19 महामारी से मंगलवार को 236 लोगों की मौत हुई, जबकि इससे एक दिन पहले 195 लोगों की मौत हुई थी। वहीं रोजाना सामने आने वाले संक्रमण के मामले मंगलवार को 1,075 पर थे, जबकि सोमवार को यह 1,221 पर थे। देश में कोरोना संक्रमण 21 फरवरी को फैलने के बाद से कुल मौतों की संख्या अब तक 29,315 हो चुकी है। वहीं, देश में कुल कोरोना संक्रमण के मामलों की संख्या 213,013 है।
इस बीच, अमेरिका स्थित लॉस एलामोस नेशनल लेबोरेटरी (लॉस अलमोस या लैनएल) के नेतृत्व में अमेरिकी वैज्ञानिकों की एक टीम ने पहचान की है कि नए स्ट्रेन covid-19 महामारी के शुरुआती दिनों में सामने आए वायरस की तुलना में अधिक संक्रामक हैं। इस बारे में 33-पृष्ठ की रिपोर्ट गुरुवार को प्रीपरिंट पोर्टल BioRxiv पर पोस्ट की गई थी, जिसकी अभी तक समीक्षा की जा रही है।
बताया जा रहा है कि यूरोप में फरवरी में वायरस का नया स्ट्रेन दिखाई दिया, जो यूएस ईस्ट कोस्ट में स्थानांतरित हो गया और मार्च के मध्य से दुनिया भर में प्रमुख स्ट्रेन बन गया है। जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय में सेंटर फॉर सिस्टम्स साइंस एंड इंजीनियरिंग (CSSE) के COVID-19 डैशबोर्ड के अनुसार, दुनिया भर में 36 लाख 64 हजार 011 कोरोना वायरस संक्रमण के मामले हैं, जबकि इसकी वजह से होने वाली मौतों की संख्या दो लाख 57 हजार 301 तक पहुंच गई है।
Powered by Blogger.