LIVE UPDATES : छत्तीसगढ़ के मजदूरों को वापस लाने केंद्र ने तीन ट्रेनों को दी अनुमति


रायपुर। देशभर के अलग-अलग राज्यों में लॉकडाउन की वजह से हजारों मजदूर फंसे हैं। छत्तीसगढ़ प्रदेश के इन मजदूरों के लिए यह अच्छी खबर है। अधिकारिक सूत्रों के अनुसार दूसरे राज्यों में फंसे छत्तीसगढ़ के मजदूरों को वापस लाने के लिए केंद्र से तीन ट्रेन राज्य को दिए जाने की सैद्धांतिक अनुमति मिल गई है।
हालांकि अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। सूत्रों का कहना है कि प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए नई दिल्ली, जम्मू और सूरत से ट्रेन रवाना किए जाने की केंद्र से अनुमति मिली है। अब गुजरात, दिल्ली और जम्मू में फंसे छत्तीसगढ़ राज्य के मज़दूर अपने घर इन ट्रेनों से लौट सकेंगे।
गौरतलब है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र सरकार और रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर छत्तीसगढ़ के प्रवासी श्रमिकों की वापसी के लिए देश के विभिन्न शहरों से 28 ट्रेनों के संचालन का अनुरोध किया है। सीएम बघेल ने गत दिनों लिखे गए पत्र में जम्मू से रायपुर-बिलासपुर 7 ट्रेनें, लखनऊ से रायपुर-बिलासपुर 3 ट्रेनें, कानपुर से रायपुर-बिलासपुर 2 ट्रेनें, चेन्नई से रायपुर-बिलासपुर 1 ट्रेन, बंगलौर से रायपुर-बिलासपुर 1 ट्रेन, पुणे से रायपुर-बिलासपुर 2 ट्रेनें, इलाहाबाद से बिलासपुर 1 ट्रेन, दिल्ली से रायपुर-बिलासपुर 3 ट्रेनें, हैदराबाद-सिकंदराबाद से रायपुर-बिलासपुर 3 ट्रेनें, विशाखापट्नम से रायपुर 1 ट्रेन, सूरत-अहमदाबाद से रायपुर 1 ट्रेन, कोलकाता से रायपुर 1 ट्रेन, जयपुर से रायपुर 1 ट्रेन, पटना से दुर्ग 1 ट्रेन के संचालन का अनुरोध किया था।
प्रथम चरण में इनमें से तीन ट्रेनों के लिए केंद्र से सहमति मिली है। इससे छत्तीसगढ़ के श्रमिकों के गृह राज्य और अपने घर लौटने की आशाओं को बल मिला है। उल्लेखनीय है कि मजदूरों को आवागमन का साधन नहीं मिलने से वे पैदल ही अपने घर तक पहुंचने हजारों किमी की पदयात्रा शुरू कर रहे हैं। इससे अनेक हादसे हो चुके हैं।
Powered by Blogger.