MOTHER"S DAY 2020 : कब है मदर्स डे, कैसे हुई मां को सम्मान देने वाले इस दिन की शुरुआत



दुनिया में ईश्वर की बनाई सबसे खूबसूरत कोई रचना है, तो वह है मां। दुनिया में कोई प्रेम का समंदर है, तो वह है मां का दिल। बेटा चाहें जैसा भी हो, लेकिन मां के लिए वह दुनिया में सबसे अच्छा होता है। कोई मुसीबत हो तो मां आगे खड़े होकर हर खतरे, हर जोखिम से बच्चों की रक्षा करती है। अपने आंचल की छांव में उसे दुनिया जहान का सुख देती है। उसी मां को प्यार देने के लिए, उसके समर्पण के लिए उसे सम्मान देने के लिए, उसे याद करने के लिए और उसे याद दिलाने के लिए कि वह हमारे लिए कितनी स्पेशल है, हर साल मई के दूसरे रविवार को दुनिया भर में मदर्स डे के रूप में मनाया जाता है।

इस बार यह खास दिन 10 मई को पूरी दुनिया में एक साथ मनाया जाएगा। इसकी शुरुआत अमेरिका से उस वक्त हुई थी, जब 9 मई 1914 को राष्ट्रपति वुड्रो विल्सन ने एक कानून पास कर मई के हर दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाने की घोषणा की थी। वहीं, एक कहानी यह भी है कि अमेरिकन एक्टिविस्ट एना जार्विस 

इसके अलावा ईसाई समुदाय के लोग इस दिन को वर्जिन मेरी का दिन मानते हैं। बहरहाल, इस खास दिन को आप अपनी मां को ढेर सारा प्यार देकर जता सकते हैं कि आप भी अपनी मां से कितना प्यार करते हैं। आप उन सब चीजों के लिए उन्हें थैंक्यू कह सकते हैं, जो उन्होंने आपके लिए आज तक की हैं। इसके अलावा आप अपनी क्षमता और व्यवस्था के अनुसार, उन्हें गिफ्ट दे सकते हैं। खाने-पीने में उनकी पसंद की चीज बनाकर या मंगवाकर उन्हें स्पेशल फील करवा सकते हैं। हालांकि, मां के लिए सबसे ज्यादा जरूरी आपकी भावनाएं हैं, जो पूरे साल भर एक सी रहें, तो बेहतर होगा।


Powered by Blogger.