MP में अचानक मरने लगे हजारों चमगादड़, ग्रामीणों में भय का माहौल : लोगों में दहशत


बिहार, यूपी के बाद एमपी में भी चमगादड़ों की अचानक मौत से लोगों में दहशत हैं। एमपी में लोग हैरान हैं कि कैसे चमगादड़ों की मौत हो रही है। चमगादड़ों की मौत क्यों हो रही है, इसके कारणों का खुलासा अभी तक नहीं हुआ है। बैतूल के बाद सिंगरौली जिले में चमगादड़ों की मौत ने लोगों को डरा जरूरर दिया है। चमगादड़ों के सैंपल जांच के लिए भोपाल भेजा गया है, लेकिन अभी तक रिपोर्ट नहीं आई है।

दरअसल, 3 दिन पहले बिहार के भोजपुर जिले में 300चमगादड़ों की मौत हो गई थी। भोजपुर राजधानी पटना से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। कोरोना के कहर के बीच अचानक से चमगादड़ों की मौत की खबर इलाके में आग की तरफ फैल गई। क्योंकि लोगों के बीच एक मिथ है कि कोरोना वायरस के पीछे चमगादड़ ही हैं। हालांकि इसकी कोई पुष्टि नहीं हुई है।

यूपी में आई रिपोर्ट
वहीं, उत्तर प्रदेश में भी चंद दिनों के अंदर ही 800 से ज्यादा चमगादड़ों की मौत हुई है। चमगादड़ों की ज्यादा मौतें गोरखपुर और बलिया जिले में हुई है। हालांकि यूपी में चमगादड़ों की मौत पर रिपोर्ट आ गई है। आईवीआरआई की रिपोर्ट के अनुसार चमगादड़ों में कोरोना की जांच भी हुई थी। लेकिन कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है। रिपोर्ट के मुताबिक चमगादड़ों की मौत हिट स्ट्रोक की वजह से हुई है। क्योंकि इन जिलों में गर्मी काफी पड़ रही है।

बैतूल में चमगादड़ की मौत
बिहार, यूपी के साथ ही एमपी के बैतूल जिले में 5 दिन पहले चमगादड़ों की मौत हुई थी। बैतूल के भीमपुर ब्लॉक में चमगादड़ों की मौत अज्ञात बीमारी की वजह से हुई थी। सैंपल के रिपोर्ट अभी नहीं आए हैं, इसकी वजह से मौत के कारणों का खुलासा नहीं हुआ है। लेकिन अचानक से चमगादड़ों की मौत के बाद ग्रामीणों में दहशत फैल गई है।

सिंगरौली में भी मौत
बैतूल के बाद एमपी सिंगरौली जिले में भी बड़ी संख्या में चमगादड़ों की मौत हुई है। माड़ा तहसील के पड़री गांव में आम के बगीचे में रहस्मयी तरीके से चमगादड़ों की मौत हुई है। इसे देख पूरे इलाके में हड़कंप मच गया है। वन विभाग की टीम ने सैंपल कलेक्ट कर जांच के लिए भोपाल भेजा है। शुरुआत जांच के आधार पर चमगादड़ों की मौत की वजह हिट स्ट्रोक ही बताई जा रही है। लेकिन अफवाहों की वजह से ग्रामीणों में भय है।




Powered by Blogger.