REWA : SGMH में डाक्टर-तीमानदार के बीच बहस,मरीज को सडक़ पर लेटाकर घण्टों तक किया हंगामा


रीवा. संजय गांधी अस्पताल के सर्जरी वार्ड में एक माह से भर्ती मरीज के इलाज को लेकर डॉक्टर व तीमारदार के बीच कहा सनुी हो गई। शुक्रवार को दोपहर बाद मामला अस्पताल परिसर से लेकर सडक़ पर पहुचं गया। तीमारदारों ने अस्पताल के सामने पर मरीज को सडक़ पर लेटाकर हंगामा हंगामा शुरू कर दिया। जाम के दौरान तीमारदार डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़ गए। सूचना पर पहुंची अमहिया पुलिस ने तीमारदारों को समझाइस देकर शांत कराया।

दो माह से चल रहा था इलाज

जिले के सिरमौर निवासी राजमणि साकेत मारपीट के दौरान गंभीर रूप से घायल हो गए थे। 26 मार्च को सर्जरी वार्ड में भर्ती कराया गया। पेट की सर्जर होने के कारण डॉक्टर ने शौच के लिए अलग से नली लगा दिए। राजमणि का इलाज 26 मार्च से 6 अप्रैल तक सर्जरी वार्ड में हुआ। सर्जरी वार्ड के डॉक्टर ने तबियत में सुधार होने के बाद छुट्टी दे दी थी। दोबारा जांच के लिए 5 मई को बुलाया गया। डॉक्टर ने दोबारा भर्ती कर लिया। शुक्रवार दोपहर घर के लिए डॉक्टर ने छुट्टी दी। इस बीच तीमारदार मरीज के शौच के लिए अलग से लगाई गई नली को निकालने के लिए कहा, डॉक्टर ने तीमारदारों से कहा कि अभी टीटमेंट चलेगा। पंद्रह दिन बाद नली को बाहर निकाला जाएगा। अभी निकालने पर दिक्कत हो सकती है।

मरीज के साथ आए तीमारदारों नली निकालने पर अड़े रहे

मरीज के साथ आए तीमादार नली को निकलवाने के लिए बार-बार दवाब बनाने लगे। इस बीच डॉक्टर और तीमारदार के बीच कहासुनी हो गई। बात बढऩे पर बीच बचाव पर मामला शांत हो गया। मरीज को लेकर बाहर निकले गुस्साए तीमारदार अस्पताल के सामने सडक़ पर जाम लगा दिया। मरीज को तपती सडक़ पर ही लेटाकर सर्जरी में ड्यूटी पर पदस्थ डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई पर अड़ गए। करीब एक घंटे तक सडक़ पर हंगामा और जाम से राहगीर परेशान रहे। सूचना पर पहुंची अमहिया थाने की पुलिस ने कार्रवाई का आश्वासन देकर शांत  कराया।

पुलिस दोबारा लेकर पहुंची अस्पताल

सडक़ पर हंगामा कर रहे तीमारदारों को पुलिस दोबारा लेकर अस्पता पहुंची। सीएमओ डॉ शिखा श्रीवास्तव ने पुलिस को बताया कि डॉक्टर टीटमेंट के हिसाब से तीमारदारों को समझाइस दे रहे थे। इस बीच मरीज के साथ आए कुछ लोग जबरिया दवाब बनाने लगे। सीएमओ की समझाइस पर तीमारदार मरीज को लेकर घर रवाना हो गए।

दवा नहीं मिलने का भी लागए आरोप

एसजीएमएच में एक माह अधिक से चल रहे इलाज के मामले में तीमारदारों ने डॉक्टरों पर मनमानी के साथ ही दवा नहीं मिलने का भी आरोप लागए। जबकि साथ में मौजूद पिता कमलेश साकेत ने कहा कि दवाएं मिली हैं। डॉक्टर का ब्योहार ठीक नहीं है। मरीज व परिवार से फटकार रहे थे।

घंटेभर बाधित रहा मार्ग, राहगीरों की फजीहत

लॉकडाउन के दौरान अस्पताल के सामने मरीज को सडक़ पर लेटाकर जाम लगने के बाद राहगीर घंटेभर परेशान रहे। जाम लगने से भीड़ बढ़ गई। इस दौरान वाहनों को रोकने ओर जाने पर कहासुनी भी हुई। बाद में पुलिस ने समझाइस देकर यातायात बहाल कराया।

मैं ड्यूटी पर नहीं हूं। हां यह सूचना जरूर मिली है कि कुछ लोग मरीज को बाहर ले जाकर हंगामा कर रहे हैं। मौके पर पुलिस पहुंची है। जांच के बाद ही कुछ बता सकेंगे।
डॉ. अतुल सिंह, सीएमओ

Powered by Blogger.