REWA : सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए विवाह बंधन में बंधे नवयुगल


रीवा. कोरोना के चलते किए गए लॉकडाउन का असर शादियों पर भी पड़ रहा है। ऐसे में बिना धूम-धड़ाके के नवयुगल फेरे ले रहे हैं। ऐसी ही एक शादी रीवा शहर के चोरहटा में हुई। सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए सिर्फ दोनों परिवारों ने मिलकर इस शादी समारोह को पूरा किया और दूल्हा व दुल्हन को नए जीवन को शुभकामनाएं दी। परिजनों की मौजूदगी में दूल्हा व दुल्हन ने वरमाला पहनाकर साथ निभाने का वचन ले लिया।

शहर के बजरंग नगर मोहल्ले में रहने वाले नितिन शुक्ला पिता शंभू प्रसाद शुक्ला की शादी चोरहटा निवासी अपराजिता उर्फ सोनल गर्ग पिता अनिल कुमार गर्ग के साथ लॉक डाउन के पूर्व तय हुई थी और शुभ मुहूर्त 1 मई को निकाला गया था। लेकिन इस बीच कोरोना वायरस फैल गया और लॉक डाउन घोषित हो गया जिससे शादी को लेकर सस्पेंस बन गया। लड़की की मां की इच्छा थी कि शुभ कार्य को टालना नहीं चाहिए और शादी नियत तारीख में हो।

फलस्वरूप दोनों परिवारों के बीच सहमति बनी और 1 मई को शादी करने का फैसला किया। शुक्रवार को सादे समारोह के बीच विवाह की रस्में बिना बैंड बाजा और बारातियों के ही पूरी कर ली गई। बारात में दूल्हा सहित आठ लोग आए थे, इतने लोग लड़की पक्ष से भी शामिल हुए। दुल्हन के घर में भी विवाह की रस्में अदा करने के लिए सिर्फ पंडाल लगा था। सोशल डिस्टेसिंग का पूरा ध्यान रखते हुए दोनों परिवारों ने शादी समारोह को पूरा कर निश्चित रूप से मिशाल पेश की है।



कार चलाकर आया दूल्हा, पांच बजे पहुंची बारात
शादी में खुद दूल्हा कार चलाकर आया था। गाड़ी में कोई ड्राइवर नहीं था और न ही कोई रिश्तेदारों को ही बुलाया गया था। शाम पांच बजे बारात दरवाजे पर पहुंची जहां एक बच्ची ने कलश दिखाकर बारात का स्वागत किया। जिस समय दूल्हे के घर से बारात रवाना हुई तो वहां भी सिर्फ परिवार के सदस्य ही मौजूद थे और किसी को नहीं बुलाया गया था।

लॉक डाउन के बाद रिश्तेदारों व मित्रों को करेंगे आमंत्रित
दोनों परिवारों का कहना था कि अभी हम लोगों ने सादे समारोह के बीच शादी कर ली है ताकि शुभ कार्य अपने समय पर ही हो जाये। लेकिन लॉक डाउन खत्म होने के बाद वृहद समारोह आयोजित करेंगे और सभी रिश्तेदारों व मित्रों को इसमें आमंत्रित करेंगे ताकि वे नवदम्पति को आशीर्वाद दे सकें।

सभी की इच्छा थी शादी तय समय में हो

शादी की तारीख लॉक डाउन के पहले ही तय हो गई थी और बीच में कोरोना वायरस को लेकर यह स्थिति निर्मित हो गई। परिवार के सभी सदस्यों की इच्छा थी कि शादी तय समय में हो जाये। इसलिए सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए सादे समारोह में विवाह की रस्मे अदा की गई है।

नितिन शुक्ला, दूल्हा
परिजनों की इच्छा थी कि विवाह की रस्मे निर्धारित तारीख में पूरी हो। विवाह के इस समारोह में जो सोशल डिस्टेसिंग, मास्क लगाना, एक दूसरे से निर्धारित दूरी बनाकर रखना सहित सभी नियमों का हम लोग पालन करते समय परिवार की खुशी को देखते हुए विवाह के बंधन में बंध रहे है।
अपराजिता गर्ग, दूल्हन

विवाह के लिए शासन से जो गाइड लाइन जारी की है उसका पूरा ध्यान रख गया है। हम लोग बारात में सिर्फ आठ लोग ही शामिल होने आए है। इसके अतिरिक्त सभी ने चेहरे में मास्क लगा रखा है और एक दूसरे को छूने से भी बच रहे है। पूरी सावधानी बरतकर विवाह की रस्में अदा की हैै। 
शंभू प्रसाद शुक्ला, दूल्हे का पिता

दूल्हन की मां की इच्छा थी कि शुभ कार्य को टालना नहीं चाहिए बल्कि वह नियत समय में ही होना चाहिए। इस बात को ध्यान में रखते हुए हमने यह शादी समारोह आयोजित किया है। अभी हम सादे समारोह में विवाह कर रहे है और जब स्थिति सामान्य हो जायेगी तो वृहद कार्यक्रम आयोजित करेंगे। 
अनिल कुमार गर्ग, दूल्हन के पिता
Powered by Blogger.