REWA : ठेकेदार द्वारा हो रहा जमकर भ्रष्टाचार कांक्रीट सड़क पर पोत रहे डामर : शासन को करोड़ों रुपए की चपत


रीवा। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत बनने वाली सड़कों में जमकर भ्रष्टाचार किए जाने के मामले लगातार प्रकाश में आ रहे हैं। तराई क्षेत्र से लेकर शहर की सीमा से बनने वाली सड़कों में घटिया निर्माण सामग्री का उपयोग किया जा रहा है। यही वजह है कि सड़क एक वर्ष भी नहीं चल पाती है।  हम बात कर रहे हैं बोदा से मझियार रोड की, जिसका निर्माण कार्य शुक्ला कांस्ट्रक्शन कंपनी को वर्ष 2018 में दिया गया था।

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत शुरू किए गए इस सड़क निर्माण कार्य में घटिया सामग्री का उपयोग किया गया है जिसके चलते कांक्रीट की बनी सड़क उखड़ गई है। वहीं डामरीकृत सड़क के बीच गड्ढे बन गए हैं। यह महज एक वर्ष के भीतर हुआ है। अधिकारियों एवं ठेकेदार की मिलीभगत से शासन को करोड़ों रुपए की चपत लगाई गई है। गौर करने वाली बात यह है कि अधिकारियों ने संविदाकार को आधे अधूरे कार्य में ही भुगतान कर दिया। अब सड़क खराब हो जाने के बाद गुणवत्ता छिपाने के लिए ठेकेदार कांक्रीट की सड़क के ऊपर डामर पोत रहे हैं।

ईएनसी ने रिजेक्ट किया था निर्माण
गत वर्ष निर्माण कार्यों का निरीक्षण करने भोपाल से आए ईएनसी ने प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत बोदा से मझियार की निर्माणाधीन सड़क को गुणवत्ता में खरा न उतरने के चलते इस कार्य को रिजेक्ट कर दिया था। उन्होंने अधिकारियों को सख्त हिदायत भी दी थी  कि जहां-जहां सड़क फट गई है वहां पुन: कार्य कराए जाएं। ताज्जुब की बात यह है कि प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के अधिकारियों ने ईएनसी के निर्देशों को भी आइना दिखा दिया और ठेकेदार को अपने भरोसे में लेकर गड्ढों को भरने के लिए पैचवर्क कर दिया। ताज्जुब तो तब होता है जब कांक्रीट की बनाई गई सड़क जो पूरी तरह से फट गई है उसे छिपाने के लिए ठेकेदार रामसज्जन शुक्ला ने वहां पर डामर की पोताई करवा दी।

भुगतान कर फंस गए अधिकारी
बोदा से मझियार सड़क के निर्माण का जिम्मा रामसज्जन शुक्ला को दिया गया है। विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी में बताया गया है कि सड़क का निर्माण अभी पूरा नहीं हुआ और संविदाकार को अधिकारियों ने भुगतान कर दिया। सड़कों की स्थिति उजागर होने के बाद अब अधिकारी इस पशोपेश में फंसे हुए हैं कि आधी से ज्यादा सड़क उखड़ गई है। वहीं कांक्रीट की सड़क फट गई है। ऐसे में वह भुगतान देकर फंसते नजर आ रहे हैं। यहां पर यह बता दें कि लोक निर्माण विभाग की अगर बात करें तो प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना में इससे कहीं ज्यादा भ्रष्टाचार अधिकारियों एवं ठेकेदारों की मिलीभगत से किया जा रहा है।

बोदा-मझियार रोड का निर्माण कार्य अण्डर कांस्ट्रक्शन है। जिन्हें संविदाकार द्वारा बनाया जा रहा है। सड़क में गड्ढा आ जाना एवं कांक्रीट सड़क में दरार आना आम बात है। उसे ठीक करा लिया जाएगा।
प्रकाश त्रिपाठी, एसडीओ पीएमजीएसवाई रीवा




तेजी से बढ़ता REWA NEWS MEDIA
पढ़े ताजा ख़बरें, अभी Like करें और हमसे जुड़ें
Powered by Blogger.