REWA : मध्यप्रदेश की कोरोना हेल्पलाइन की खुली पोल,आनलाइन पंजीयन भी फेल


रीवा : प्रदेश से बाहर दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासी श्रमिक, छात्र एवं तीर्थ यात्रियों को उनके घर तक पहुंचाने सरकारी दावों की पोल खुलने लगी है। दूसरे राज्यों में फंसे लोगों की मदद एवं उनका पंजीयन करने राज्य स्तरीय हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। घर वापसी के लिए आनलाइन पंजीयन की व्यवस्था भी की गई है। लेकिन जब बाहर फंसे श्रमिक मदद के लिए हेल्पालन नंबर पर फोन लगाते है तो वह व्यस्त बताता है। प्रदेश की कोरोना हेल्पलाइन नंबर हेल्पलेस हो चुका है। कुछ ऐसा ही हाल प्रदेश सरकार द्वारा जारी की गई आनलाइन  पंजीयन बेवसाइट का है। बाहर फंसे लोग घर वापसी के लिए अनालइन आवेदन कर रहे हैं। लेकिन उनका ईपास आवेदन स्वीकृत नहीं हो रहा। बीते तीन दिन में प्रदेश से बाहर लाकडाउन में फंसे एक भी व्यक्ति को हेल्पालइन से कोई मदद नहीं मिली। ऐसे में घर पहुंचने की उम्मीद लगाए बैठे लोग एवं उनके परिजन एक ही सवाल पूछ रहे हैं। हम दूसरे राज्य में फंसे हैं हमारी आवाज सरकार तक कैसे पहुंचे।


अन्य राज्यों में फंसे लोगों का कहना है कि उसने जिला हेल्पलाइन नंबर में काल किया तो पंजीयन कराने के लिए प्रदेश का हेल्पलाइन नंबर दे दिया गया। मै तीन दिन से राज्य हेल्पालन नंबर डायल कर रहा हूं। हर बार जवाब अभी बिजी है बाद में डायल करे। दूसरे राज्यों में फंसे लोगों को प्रशासन एवं सरकार के हेल्पलाइन नंबरों से किसी प्रकार की मदद नहीं मिल रही। इससे उनकी घर वापसी की उम्मीदे टूटने लगी हैं।

Powered by Blogger.