REWA : मुख्यमंत्री की घोषणा : रीवा और शहडोल संभाग के बाहर फंसे श्रमिकों के खातों में भेजा एक-एक हजार रुपए





रीवा. लॉकडाउन में प्रदेश के बाहर फंसे मजूदरों के खाते में सरकार ने दवाई, भोजन आदि व्यवस्थाओं को लेकर एक-एक हजार रुपए की सहायता राशि भेजी है। मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद रीवा और शहडोल संभाग के बाहर फंसे श्रमिकों के खाते में एक-एक हाजर रुपए भेजा गया है। कमिश्नर डॉ अशोक कुमार भार्गव ने बताया कि रीवा संभाग में चार करोड़े सात लाख 58 हजार रुपए की राशि मजदूरों के खाते में हस्तांतरित की गई है। जबकि शहडोल संभाग में 38 लाख 77 हजार रुपए भेजा गया है।
रीवा-शहडोल संभाग के श्रमिकों को भेजी सहायता राशि
कमिश्नर ने बताया कि कलेक्टरों से प्राप्त जानकारी के अनुसार रीवा संभाग के रीवा जिले में 12 हजार 407, सतना जिले में 17 हजार 937, सीधी जिले में चार हजार 433 एवं सिंगरौली जिले के पांच हजार 981 व्यक्तियों को एक-एक हजार रुपए के मान से राशि उनके खाते में हस्तांतरित की गई है। इसी तरह शहडोल संभाग के शहडोल जिले में दो हजार 469, उमरिया के 661 एवं अनूपपुर के 747 हितग्राहियों को एक-एक हजार रूपये की राशि हस्तांतरित की गई है। कमिश्नर ने सभी कलेक्टरों को निर्देश दिए हैं कि कोई भी पात्र हितग्राही इस राशि से वंचित न होने पाए
मजदूरों को कार्य मुहैया कराएं
कमिश्नर ने दोनों संभागों के सभी जिला कलेक्टरों एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों से कहा है कि मनरेगा के अंतर्गत निर्माण कार्य प्रारंभ कर मजदूरों को मजदूरी मूलक कार्य मुहैया कराएं। उन्होंने कहा कि मजदूरों को उनकी आवश्यकता के अनुरूप रोजगार उपलब्ध हों । ऐसे निर्माण कार्य जो भूमि विवादों के कारण लंबे समय से लंबित हैं ऐसे सभी निर्माण कार्यों को सूचीबद्ध कर उनका निराकरण अभियान चलाकर कराएं। भूमि विवादों के निराकरण के पश्चात लंबित अथवा अधूरे निर्माण कार्यों को तेजी से पूर्ण कराएं।


Powered by Blogger.