श्रद्धालुओं के लिए 8 जून से खुलेंगे महाकाल के पट, भस्म आरती के बदलेंगे नियम


उज्जैन। मार्च माह से बंद हो चुके धर्मस्थलों के पट खुलने का इंतजार जल्द ही पूरा होने जा रहा है। 8 जून से महाकाल मंदिर के भी द्वार खुल जाएंगे और श्रद्धालुओं को भी भस्म आरती में जाने की सशर्त अनुमति मिल जाएगी। मंदिर समेत प्रशासन के साथ इसके नियम बनाने पर विचार किया जा रहा है। जल्द ही नए नियम जारी किए जाएंगे।

लॉकडाउन का चौथा चरण पूरा होने के बाद अब धीरे-धीरे शहर अनलॉक की तरफ बढ़ रहा है। संक्रमित क्षेत्रों को छोड़कर बाकी शहर में स्थिति सामान्य होने लगी है। केंद्र सरकार की ओर से घोषणा की गई है कि 8 जून से धार्मिक स्थलों को भी खोला जाएगा। ऐसे में महाकाल मंदिर में भी सुगबुगाहट शुरू हो गई है, लेकिन महाकाल दर्शन के साथ ही भस्म आरती व्यवस्था कैसे जमाएंगे, इस पर भी मंथन करना होगा। क्योंकि हर दिन लगभग तीन घंटे भस्म आरती होती है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना बहुत अनिवार्य होगा।

आने वाले समय में स्थिति सामान्य होने के साथ ही अब मंदिरों को भी खोलने की बात कही जा रही है। धार्मिक शहर में अनेक मंदिर हैं, वहीं भक्तों का सैलाब भी मंदिर में आकर दर्शन करने को लालायित है। सबसे ज्यादा भीड़ महाकाल मंदिर में उमड़ती है। प्रतिदिन हजारों की संख्या में भक्त यहां आते हैं। यही वजह है कि प्रशासक एसएस रावत ने पिछले दिनों अधिकारियों की बैठक लेकर मंदिर की जिम्मेदारियां तय की थीं। साथ ही उन्होंने आगामी दिनों पुनः प्रबंध समिति की बैठक बुलाए जाने की बात कही है।

भस्म आरती में कम रखेंगे श्रद्धालुओं की संख्या
प्रतिदिन तड़के चार बजे होने वाली विश्व प्रसिद्ध भस्म आरती में श्रद्धालुओं की संख्या को लेकर भी मंथन किया जाएगा। प्रशासन रावत के मुताबिक आगामी दिनों में बैठक बुलाकर तय किया जाएगा कि किस प्रकार से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो। वहीं मंदिर के पुजारीगण की भी इसमें राय ली जाएगी।

उज्जैन में कोरोना की स्थिति
महाकाल की नगरी उज्जैन में कोरोना के चार नए पॉजिटिव मिले हैं, वहीं एक व्यक्ति की मौत हो गई है। जिले में अब तक संक्रमितों का आंकड़ा 670 पर पहुंच गया है, जबकि कुल 58 मरीजों की मौत हुई है। जबकि सोमवार को 22 मरीज डिस्चार्ज भी हुए हैं।



Powered by Blogger.