REWA : देश की सेवा करते-करते शहीद हुआ रीवा का लाल ,लॉकडाउन खुलते ही आने का किया था वादा, अब तिरंगे में लिपटा आएगा पार्थिव शरीर


ऋतुराज द्विवेदी,रीवा. भारत-चीन सीमा पर गलवान घाटी में चीन के सैनिकों के साथ हुई झड़प में शहीद होने वाले रीवा के लाल शहीद दीपक सिंह ने परिजन से जल्द घर वापस आने की बाद कही थी। 12 दिन पहले जब जवान दीपक से उनके भाई ने फोन पर बात की थी तो दीपक ने कहा था कि वो लॉकडाउन के बाद घर आएंगे। दीपक के भाई प्रकाश सिंह भी सेना में ही हैं। दीपक की मौत की खबर मिलने के बाद से पूरा परिवार सदमे में है और गांव में मातम पसरा हुआ है। दीपक रीवा जिले के फरेंदा गांव के रहने वाले थे।

04.png

वादा पूरा नहीं कर पाए दीपक
दीपक के परिजन बताते हैं कि 12 दिन पहले जब दीपक से फोन पर बात हुई थी तो उसने लॉकडाउन के बाद घर आने की बात कही थी पत्नी से कहा था कि आते वक्त कश्मीरी शॉल लेकर आऊंगा लेकिन भगवान को शायद कुछ और ही मंजूर था और दीपक देश की रक्षा करते करते शहीद हो गए। बीती रात करीब 10 बजे फोन के जरिए परिजन को दीपक के शहीद होने की खबर मिली।

30 नवंबर को हुई थी शादी
दीपक के पिता गजराज सिंह ने बताया कि दीपक की शादी 30 नवंबर हो हुई थी और वो 14 फरवरी को ड्यूटी ज्वाइन करने के लिए चले गए थे और भारत-चीन सीमा पर तैनात थे। फोन पर हुई बातचीत में जल्द घर आने की बात भी कही थी लेकिन किसे पता था कि अब वो तिरंगे में लिपटकर ही घर आएगा। दुखी मन से पिता गजराज ने बेटे की शहादत पर गर्व करते हुए ये भी कहा कि बेटे ने सम्मान से उनका सिर ऊंचा कर दिया। दीपक के शहीद होने की खबर मिलने के बाद से उनकी पत्नी गहरे सदमे में हैं और बेसुध सी हो गई हैं।

06.png

बड़े भाई से मिली थी देश की सेवा की प्रेरणा
शहीद दीपक के बड़े भाई प्रकाश भी सेना में हैं और उन्हीं से प्रेरणा मिलने के बाद दीपक ने सेना में जाने का मन बनाया था। दीपक फिलहाल भारत-चीन सीमा पर तैनात बिहार रेजीमेंट में पोस्टेड थे। फिलहाल दीपक का पार्थिव शरीर को सेना ने लेह में रखा है और उसे गुरुवार को रीवा और फिर वहां से उनके पैतृक गांव फरेंदा लाया जाएगा।





REWA NEWS MEDIA पढ़े ताजा ख़बरें, अभी Like करें और हमसे जुड़ें
रीवा, सिरमौर ,सेमरिया ,मनगवा, देवतलाब, मऊगंज ,गुढ व त्यौथर क्षेत्र की हर खबर सिर्फ  रीवा न्यूज़ मीडिया पर : VISIT NOW : www.rewanewsmedia.com



Powered by Blogger.