तिरुपति बालाजी मंदिर में एक साथ 140 स्टाफों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव : मंदिर में मचा हड़कंप


नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस  का कहर लागातार जारी है। आलम ये है कि लॉकडाउन के बावजूद कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा दस लाख के पार पहुंच चुका है। इसी बड़ी कोरोना का बडा़ विसफोट तिरुपति बालाजी मंदिर में हुआ है। बताया जा रहा है कि यहां एक साथ 140 स्टाफ कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। कोरोना के इस धमाके के बावजूद मंदिर के बोर्ड का कहना है कि मंदर में श्रद्धालु दर्शन के लिए आ सकते हैं।

140 स्टाफ कोरोना पॉजिटिव

जानकारी के मुताबिक, पुजारी समेत कुल 140 स्टाफों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इनमें अर्चक, टीटीडी के कर्मचारी, सिक्‍योरिटी स्‍टाफ और प्रसाद तैयार करने वाले स्‍टाफ के कर्मचारी भी शामिल हैं। तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम बोर्ड के अध्यक्ष वाई वी सुब्बा रेड्डी ने कहा कि कोरोना विस्फोट के बाद भी श्रद्धालुओं को फिलहाल रोकने की कोई योजना नहीं है। क्योंकि, लॉकडाउन  के कारण पहले ही मंदिर को काफी घाटा हो चुका है। उन्होंने कहा कि अभी तक तीर्थयात्रियों के कोरेाना पॉजिटिव होने के कोई सबूत नहीं मिले हैं।

मंदिर बंद करने की कोई योजना नहीं

अध्यक्ष वाई वी सुब्बा रेड्डी  का कहना है कि मंदिर परिसर  में सोशल डिस्‍टेंसिंगको मेंटेन रखने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि पॉजिटिव पाए गए 140 लोगों में से 70 लोग ठीक हो चुके हैं। रेड्डी ने बताया कि पॉजिटिव पाए गए लोगों में से ज्‍यादातर आंध्र पुलिस के कर्माचीर हैं, जो मंदिर के साथ काम कर रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि केवल एक लोगों में कोरोना के गंभीर लक्षण दिखाई दिए हैं। लिहाजा, तिरुमाला मंदिर को बंद करने की फिलहाल कोई योजना नहीं है। रेड्डी के मुताबिक, वरिष्ठ पुजारियों अभी ड्यूटी पर नहीं रहेंगे । संक्रमण के फैलाव को देखते हुए कर्मचारियों और पुजारियों को अलग-अलग आवास देने का अनुरोध किया गया है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक , कोरोना पॉजिटिव  50 में से 15 पुजारी को क्‍वारंटाइन किया गया गया है अभी भी 25 पुजारियों के नतीजों का इंतजार है। हालांकि, इस पूरे मामले को लेकर आंध्र सरकार की ओर से अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। लेकिन, बालाजी में कोरोना विस्फोट से जरूर हड़कंप मच गया है।


Powered by Blogger.