BHOPAL : राजधानी एक्सप्रेस में युवक के पास बरामद हुई नकली नोटों, नाइजीरियन गिरोह से संपर्क : STF ने शुरू की जांच


भोपाल। राजधानी एक्सप्रेस में युवक के पास बरामद किए गए नकली नोटों की जांच एसटीएफ ने शुरू कर दी है। पूछताछ में जानकारी निकलकर सामने आई है कि युवक का नाइजीरियन सिंडिकेट के साथ कनेक्शन है। इसके बाद युवक के संपर्क करने वाले नाइजीरियन गिरोह की तलाश शुरू हो गई है।

जीआरपी प्रभारी डीके जोशी ने बताया कि युवक से एसटीएफ पूछताछ कर चुकी है। युवक ने बताया कि सोशल मीडिया के जरिए विदेशी युवकों से उसकी मुलाकात हुई थी। जिसके बाद कुछ पैसे देकर एल्यूमीनियम फॉयल के अंदर नकली नोटों का एक बंडल दिया गया था। अब इस मामले में एसटीएफ ने काल डिटेल्स और आईपी एड्रैस का पता लगाना शुरू कर दिया है। सूत्रों ने बताया कि एसटीएफ को इस युवक के जरिए नकली नोट का कारोबार कर रहे गिरोह तक पहुंचने की उम्मीद है। आरोपी युवक फेसबुक समेत सोशल मीडिया के अन्य माध्यमों से नाइजीरिया के बदमाशों के संपर्क में था। बदमाश देश के किस-किस हिस्से से नकली नोटों के कारोबार को आपरेट कर रहे हैं। एसटीएफ इस बात का पता करने की कोशिश करेगी।

बड़े शहरों से संचालित करता है गिरोह
शुक्रवार को एसटीएफ ने युवक से कई घंटों तक पूछताछ की थी। पूछताछ के दौरान नकली करंसी से जुड़े कारोबार के कई अहम सुराग मिले हैं। युवक तो इस गिरोह का केवल सदस्य है पर इसके सरगना देश के कई बड़े शहरों से इस कारोबार को ऑपरेट कर रहे हैं। एसटीएफ इस गिरोह के अन्य सदस्यों तक पहुंचने की कोशिश करेगी। गौरतलब है कि नाइजीरियन गैंग देश के बड़े शहरों जैसे दिल्ली, मुंबई, कोलकाता व बेंगलुरू से नकली नोटों का कारोबार चला रहे हैं। कई गिरोह का खुलासा भी हो चुका है। इसके बाद भी उन पर लगाम नहीं लग पाई है।

एफएसएल रिपोर्ट का इंतजार
राजधानी एक्सप्रेस से युवक के पास मिले नोटों की जांच पूरी हो गई है। जीआरपी ने प्रारंभिक जांच में पाया है कि युवक के पास मिले सभी नोट नकली हैं। इसका पता लगाने के लिए नोट पर लगे कैमिकल को हटाया गया, फिर पता चला कि सभी नोटों पर एक ही सीरियल नंबर हैं। शनिवार को युवक को कोर्ट में पेश किया गया है। इसके साथ ही जीआरपी को 22 जुलाई तक रिमांड भी मिली है। जीआरपी को एफएसएल रिपोर्ट का भी इंतजार है। इससे भी कुछ खुलासे हो सकते हैं।


Powered by Blogger.