CRIME : शराब तस्करों के साथ मिलकर पुलिसकर्मी करता था शराब तस्करी ,कार से मिली लाखों की शराब


उज्जैन. अगर पुलिसकर्मी ही गलत काम करने वालों से मिल जाएं तो भला गलत काम करने वालों को कौन रोकेगा। ये सवाल हम इसलिए कर रहे हैं क्योंकि उज्जैन के नागदा में एक ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां एक पुलिसकर्मी कार से शराब की तस्करी करते हुए गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार किए गए पुलिसकर्मी का नाम प्रवीण गर्ग है जो रतलाम के माणक चौक थाने में आरक्षक के पद पर पदस्थ है।


शराब तस्करी में धराया आरक्षक 
रतलाम के माणक चौक थाने में पदस्थ आरक्षक प्रवीण गर्ग को पुलिस ने उस वक्त शराब तस्करी करते हुए गिरफ्तार किया जब वो अपने एक साथी के साथ कार से शराब की तस्करी करते हुए शराब की डिलेवरी देने के लिए जा रहा था। मुखबिर से पुलिस को सूचना मिली थी कि एक अल्टो कार से शराब की तस्करी की जा रही है। इस सूचना पर नागदा पुलिस थाने के टीआई श्याम चंद्र शर्मा सिविल ड्रेस में अपनी टीम के साथ खाचरोद नाके पर तैनात हो गए। जैसे ही मुखबिर की बताई कार वहां पहुंची तो पुलिस ने उसे रोका और जैसे ही कार की तलाशी ली तो उसमें से 40 पेटी शराब बरामद हुई। शराब को कार की सीट के नीचे छिपाकर रखा गया था जिसे पुलिस ने बरामद कर लिया है। पुलिस के मुताबिक जब्त की गई शराब की कीमत करीब डेढ़ लाख रुपए है। पुलिस ने दो लोगों को भी हिरासत में लिया है जिनमें से एक नाम प्रवीण गर्ग है जो रतलाम के माणक चौक थाने में आरक्षक के पद पर पदस्थ है जबकि दूसरे आरोपी का नाम रवि है ।


झाबुआ से ला रहे थे शराब 
पुलिस के मुताबिक आरोपी आरक्षक प्रवीण गर्ग और उसका साथी रवि झाबुआ से शराब की खेप लेकर आए थे। पूछताछ में आरोपियों ने नागदा में रहने वाले राजकुमार नाम के शख्स को शराब सप्लाई करने की बात कबूली है। इतना ही नहीं आरोपी आरक्षक ने पुलिस को बताया है कि वो पहले भी दो से तीन बार शराब की तस्करी कर चुका है।


Powered by Blogger.