INDORE : इंदौर में फिर LOCKDOWN होगा या नहीं : निर्णय आज


इंदौर। बढ़ते संक्रमण से चिंता, लॉकडाउन पर फैसला आज शहर में कोरोना संक्रमण के पॉजिटिव मरीजों की बढ़ती संख्या ने प्रशासन, डॉक्टरों और जनप्रतिनिधियों को फिर चिंता में डाल दिया है। अनलॉक के बाद लोगों की लापरवाही और बढ़ती संक्रमण दर ने प्रशासन के सामने एक बार फिर लॉकडाउन की स्थिति खड़ी कर दी है। रविवार को इसे लेकर रेसीडेंसी कोठी पर बैठक रखी गई। 

लॉकडाउन को लेकर चर्चा हुई, लेकिन इस पर फैसला सोमवार को आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में लिया जाएगा। बैठक में सांसद शंकर लालवानी, संभागायुक्त डॉ. पवन शर्मा, कलेक्टर मनीषसिंह, डॉ. निशांत खरे, एमजीएम मेडिकल कॉलेज की डीन डॉ. ज्योति बिंदल सहित अन्य डॉक्टर मौजूद थे। सांसद लालवानी ने कहा कि कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ना चिंता का विषय है। ग्रामीण क्षेत्रों में भी फैलाव हो रहा है। हम स्थिति बिगड़ने नहीं देंगे, कुछ कड़े कदम उठाने पड़ सकते हैं। संभागायुक्त ने ऐहतियात के लिए पुख्ता कदम उठाने की जरूरत बताई।

सर्वे से मिल रहे 70 फीसद मरीज

बैठक में कलेक्टर ने कहा कि जिले में किल कोरोना अभियान सर्वे से 60-70 फीसद मरीज सामने आ रहे हैं। सब्जी मंडी में भीड़ बढ़ रही है, खाने-पीने की दुकानों पर लापरवाही बरती जा रही है। लॉकडाउन जरूरी नहीं: विजयवर्गीय भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि संक्रमण को लेकर शहर में खतरे के निशान हैं, लेकिन लॉकडाउन जरूरी नहीं। कुछ लोगों की लापरवाही की सजा पूरे शहर को नहीं मिलना चाहिए।

सावधानी नहीं बरती तो फिर लगना पड़ सकता है लॉकडाउन : लालवानी

इसके पहले सांसद शंकर लालवानी ने शनिवार को कहा था कि कोरोना संक्रमण की कड़ी तोड़कर शहर बेहतर स्थिति में आ चुका था, लेकिन कुछ लोगों को लापरवाही के कारण फिर संक्रमण के मामले बढ़ने लगे। यदि शहरवासियों ने सावधानी नहीं बरती तो देश के दूसरे शहरों की तरह इंदौर में भी फिर लॉकडाउन लगाना पड़ सकता है।


Powered by Blogger.