REWA : रीवा के पांच ब्लाकों में पांच साल तक बच्चों की सेहत खराब, जानिए क्यों


रीवा. जिले में पांच साल तक के बच्चों की सेहत ठीक नहीं है। सर्वे के दौरान रायपुर कर्चुलियान समेत पांच ब्लाकों में बच्चों का पोषण स्तर ठीक नहीं मिली है। पोषण स्तर परखने के लिए सर्वे के दौरान 2.41 लाख बच्चों की सेहत खंगाली गई। जिसमें 25 हजार बच्चे कम वजन मिला है। जबकि 2639 बच्चे अति कम कम वजन पाए गए हैं। सर्वे में रायपुर कर्चुलियान क्षेत्र में पांच साल तक के बीस फीसदी बच्चों की सेहत ठीक मिली है। इसी तरह जिले के जवा, सिरमौर, रीवा ग्रामीण में भी औसत पंद्रह फीसदी बच्चों की सेहत ठीक नहीं है।

बच्चों के लिए योजनाएं बेमानी 
जिले में पांच साल के बच्चों को संतुलित आहार नहीं मिल रहा है। जिससे उनकी सेहत खराब हो रही है। ऐसे बच्चों के लिए सरकार की पोषण आहार की योजनाएं बेमानी हैं। पोषण स्तर परखने के लिए जनवरी 2020 में विशेष अभियन के दौरान 0-5 साल के बच्चों का सर्वे किया गया। सर्वे के दौरान परियोजना क्षेत्र में पोषण स्तर परखने के लिए पांच साल तक के बच्चों का वजन किया गया। रायपुर कर्चुलियान-1 में 14404 बच्चों का सर्वे किया गया। जिसमें 13674 का वजन किया गया। इसमें 2270 बच्चे कम वजन चिह्ंित किए गए हैं। जबकि 303 बच्चे अति कम वजन के पाए गए। दोनों सेक्टरों में अति कम व कम वजन को मिलाकर बीस फीसदी बच्चों का पोषण स्तर ठीक नहीं है।

पोषण पुनर्वास केन्द्रों में खाली रहे बेड 
जिले में पांच साल तक के बच्चों की सेहत ठीक रखने के लिए ब्लाक स्तर पर पोषण पुनर्वास केन्द्र खोला है। जिला मुख्यालय से लेकर ग्रामीण स्तर पर 110 पोषण पुनर्वास केन्द्रों में 110 बेड हैं। सर्वे में बच्चों की सेहत खराब होने के बाद भी पोषण स्तर बढ़ाने के लिए जिम्मेदार नाकाम रहे। जिले में ज्यादातर पोषण पुनर्वास केन्द्रों पर बेड खाली पड़े हैं। कोरोना काल में ज्यादातर बेड खाली पड़े हुए हैं। चिह्ंित परिवार के बच्चों की सेहत सुधारने में जिम्मेर लापरवाह बने हुए हैं। 

फैक्ट फाइल 
कुल बच्चों का सर्वे 241547
वजन किए गए बच्चों की संख्या 230776
कम वजन के बच्चों की संख्या 25591
अति कम वजन के बच्चों की संख्या 2639
Powered by Blogger.