REWA : शहर के मुख्य मार्ग सिरमौर चौराहे से रतहरा के बीच गुजरना एक चुनौती, वहीं अधिकारियों का फटकार बना मजाक


रीवा। शहर के मुख्य मार्ग को लेकर करीब महीने भर से अधिक समय से लोग परेशान हैं। इस मार्ग से गुजरना आजकल बड़ी चुनौती बन गया है, जगह-जगह गड्ढे इसमें हैं। मौसम खुला होता है तो धूल उड़ती है और हल्की बारिश होती है तो कीचड़ उठने लगता है। इस मार्ग की समस्या पर लगातार लोगों की ओर से प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराया जा रहा है। जिस पर संभागायुक्त, कलेक्टर एवं नगर निगम के आयुक्त की ओर से अलग-अलग बैठकें कर ठेकेदारों को फटकार लगाई गई और चेतावनी दी गई है। जिसमें सड़कों के गड्ढे भरने और कीचड़ एवं धूल की समस्या से छुटकारा दिलाने का निर्देश शामिल है। अधिकारियों की इस कड़ी फटकार के बाद भी ठेकेदारों की लापरवाही जारी है। कलेक्टर इलैयाराज टी और निगम आयुक्त मृणाल मीना ने भ्रमण भी किया है। इसके बाद कुछ स्थानों पर गड्ढे भरने का कार्य प्रारंभ किया गया था लेकिन अब फिर पहले की तरह ही स्थितियां बनी हुई हैं। इस मार्ग से गुजरने वाले परेशानी का सामना कर रहे हैं।


विधायक की समीक्षा में इस समस्या का उल्लेख नहीं
रीवा विधायक राजेन्द्र शुक्ला इनदिनों लगातार अधिकारियों के साथ शहर के विकास कार्यों को लेकर बैठकें कर रहे हैं। उनकी ओर से रतहरा से सिरमौर चौराहे तक खराब हो चुकी सड़क की मरम्मत कराने का निर्देश अधिकारियों को नहीं दिया गया है। इसलिए मार्ग के किनारे दुकानें लगाने वाले व्यापारियों का कहना है कि इस सड़क के खस्ता हालत की वजह से उनका व्यवसाय बाधित हो रहा है। सत्ता से जुड़े नेताओं को इस पर हस्तक्षेप करना चाहिए, ताकि ठेकेदारों की मनमानी पर नियंत्रण किया जा सके। बताया गया है कि विधायक शुक्ला ने सोमवार को फिर अधिकारियों के साथ बैठक की जिसमें उक्त सड़क का कोई उल्लेख नहीं रहा।



बरसात के पहले इस सड़क से धूल उड़ती रही है, कलेक्टर ने ठेकेदारों को चेतावनी दी थी, तो कुछ दिन पानी का छिड़काव किया था। बारिश शुरू हुई तो कीचड़ उठ रही है। कुछ दिन मौसम खुला रहता है तो अब भी धूल उड़ती है। 




श्रीप्रकाश गुप्ता, व्यवसाई
सबकी तरह हम भी चाहते हैं कि अच्छी सड़क बने। कुछ साल पहले तक ठीक थी लेकिन जब से कार्य प्रारंभ किए गए हैं, सड़क से निकल पाना मुश्किल हो रहा है। इनदिनों आम लोगों के साथ ही सड़क किनारे व्यापार करने वाले भी परेशान हैं। कभी धूल तो कभी कीचड़ की समस्या बनी रहती है।
संजीत सिंह, व्यवसाई


खराब सड़क होने के चलते रतहरा से सिरमौर चौराहे तक आधे घंटे से अधिक का समय पहुंचने में लगता है। कई जगह तो जाम का भी सामना करना पड़ता है। हम चाहते हैं कि बरसात के समय यह कार्य रोक दिया जाए ताकि लोगों के आने-जाने के लिए कोई समस्या नहीं हो।

विमल सोंधिया, व्यवसाई


सड़क जब अच्छी होती है तो सत्ता में बैठे लोग स्वयं का प्रयास बताते हुए बाहवाही लूटते हैं। अब खराब हो गई तो हम प्रकृति को दोष नहीं दे सकते। उन्हीं जिम्मेदारों की कमियों की वजह से मुख्य सड़क पर आज निकलना मुश्किल हो रहा है। जनता को हिसाब लेने का अधिकार है।

गिरिजेश सिंह सेंगर, माकपा नेता




Powered by Blogger.