REWA : जिले में डेढ़ हजार लाइसेंसी दुकानों पर प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के नाम पर बेचीं जा रही नकली उत्पाद व दवाएं


रीवा. कोरोना काल के समय संक्रमण से बचाव के लिए बाजार में प्रतिरोधक क्षमता (इम्युनिटी पॉवर) बढ़ाने वाले उत्पादो की मांग बढ़ी है। जिससे आयुर्वेदिक काढ़ा, हनी, पाउडर, मल्टीविटामिंस की दवाएं आदि ब्रांडेड कंपनियों के उत्पादों से मिलते-जुलते उत्पाद बाजार में उतारे गए हैं। कई नामी गिरामी कंपनियों से मिलते-जुलते उत्पादों के पैकिंग में भी खेल हो रहा है। ऐसे में ग्राहकों को नकली-असली की पहचान भी नहीं हो पा रही है। इसका खुलासा बीते दो माह में लिए गए नमूने में कइयो के सैंपल मिथ्याछाप मिले हैं। प्रकरण अपर कलेक्टर कोर्ट में पहुंचे हैं।


शहर में उत्पादों बड़े कारोबारी

शहर में विंध्य स्तर पर कई मल्टीविटामिंस सिरप, दवाएं, आयुर्वेद से जुड़े काढ़ा, तुलसी शक्ति आदि उत्पादों बड़े कारोबारी है। रीवा से सीधी, सिंगरौली समेत अन्य छोटे-छोटे जगहों पर मल्टीविटमिन की दवाओं के साथ आयुर्वेद, हनी, ताकत के पाउडर आदि की सप्लाई की जाती है। कोरोना संकट काल में हर कोई इम्युनिटी पावर बढ़ाने के लिए पाउडर, मल्टीविटामिन की दवाएं समेत आयुर्वेद काढ़ा आदि की खरीदारी कर रहा है। खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग के रेकार्ड के मुताबिक जिले में लगभग डेढ़ हजार लाइसेंस हैं।


इम्युनिट बढ़ाने वाले उत्पाद डेढ़ से दो गुना मंहगा

शहर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के वाले उत्पादों में नकली के साथ ही दाम में भी खेल किया जा रहा है। ऐसे कई उत्पाद हैं जिसकी कीमत डेढ़ से दो गुना वसूल किया जा रहा है। कई दवा संचालकों के मुताबिक अप्रैल की अपेक्षा मई, जून और जुलाई में दो से तीन गुना उत्पादों की मांग बढ़ गई है। इस बीच नकली ब्रांड भी असली बताकर बेचा जा रहा है।


किराना बाजार में भी काढ़ा के अलग-अलग उत्पाद

शहर में किराना दुकानों पर भी पंसारी की दुकान की तरह अपने तरीके के आयुर्वेद काढ़ा का उत्पाद बेचा जा रहा है। शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्र में स्थित किराना की दुकानों पर दो रुपए के बिकने वाला काढ़ा के पैकेट कीमत पांच से दस रुपए तक बिक रही है।

सेनेटाइन का ऑनलाइन खड़ा हो रहा बाजार

शहर में इम्यिुनिटी पावर बढ़ाने के प्रोडक्टर का ऑनलाइन भी बाजार खड़ा हो गया है। संक्रमण को भयभीत लोग घरों में बैठे सेनेटाइज समेत इम्यिुनिटी बढ़ाने के आयुर्वेद से मिलते-जुलते उत्पाद की बुकिंग कर रहे हैं। ऑनलाइन बुकिंग तेज हो गई है। प्रोडक्ट को अच्छा और क्रियाशील बताते हु़ए उसमें छूट आदि की बातें कहकर व्यापार किया जा रहा है।


नमूने फेल

अमहिया में हनी का लिया सैंपल खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग के फूड इंस्पेक्टर ओपी साहू ने अमहिया स्थित पातंजलि एजेंसी में हनी का सैंपल लेकर राज्य प्रयोगशाला भेजा है। फूड इंस्पेक्टर के मुताबिक कोरोना काल में कई नकली उत्पादों के बेचे जाने की सूचना मिली है। नमूने लिए जा रहे हैं। अब तक आधा दर्जन नमूने लेकर राज्य प्रयोगशाला को भेजे गए हैं। कुछ नमूने फेल होने की सूचना मिली है। रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ बता सकेंगे। कइयो का जांच प्रतिवेदन अपर कलेक्टर कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत किया गया है।


Powered by Blogger.