शर्मनाक : MP के रीवा जिले में वेतन ना मिलने से अतिथि शिक्षक ने की आत्महत्या : जीतू पटवारी ने ट्वीट कर शिवराज व सिंधिया पर साधा निशाना



ऋतुराज द्विवेदी,रीवा। रीवा से कांग्रेस लोकसभा प्रत्याशी रहे सिद्धार्थ तिवारी ने अतिथि शिक्षक की आत्महत्या पर शिवराज सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है उन्होंने कहा कि वेतन ना मिलने से अतिथि शिक्षक संजय शुक्ला ने रीवा में आत्महत्या कर ली।

अतिथिशिक्षकों को वेतन नहीं मिल रहा है वे आत्महत्या के लिए मज़बूर हैं जनसेवा की प्रतीक्षा करते इन लोगों की तरफ़ भी देखिए शिवराज जी और सिंधिया जी को भी प्रेरित करिए वे भले सड़क पर न आएँ इनके लिए दबाव तो बनायें 

शिक्षक संजीव शुक्ला के उपचार के दौरान मृत्यु
रीवा के संजय गांधी स्मृति चिकित्सालय में चल रहा था उपचार...
3 माह से वेतन न मिलने के कारण आत्महत्या का आत्मघाती कदम उठाया था...
डीईओ और गंगेव बीईओ की लापरवाही...
बजट आने के बाद भी नहीं दिया गया वेतन...

जिला शिक्षा अधिकारी व विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी (बीईओ) गंगेव मनोज श्रीवास्तव की लापरवाही के चलते गंगेव ब्लाक के दुबगवां प्राथमिक शाला में पदस्थ शिक्षक संजीव शुक्ला 50 वर्ष ने बीती रात नींद की गोलियां खाकर खुदकुशी की कोशिश की थी। शिक्षक को गंभीर हालत में एसजीएमएच में दाखिल कराया गया था। जहां उपचार के बाद शिक्षक की मौत हो गई। 



बताया गया है कि तीन महीने से संजीव शुक्ला का वेतन नहीं दिया जा रहा है। जिससे वे परेशान थे। होम लोन के कारण संजीव शुक्ला को लगातार ईएमआई भरने के लिए फोन पर प्रताड़ित किया जा रहा था। इससे वे डिप्रेशन में चले गए थे । दो दिन पहले उन्हें मनोचिकित्सक को दिखाया गया था जिसने एक हफ्ते के लिए दवा लिखी थी।लेकिन रात को शुक्ला ने एक साथ नींद की पूरी गोलियां निगल लीं। जहां उपचार के दौरान की मृत्यु हो गई।

आरोपों से घिरे अधिकारी , अधिकारियों ने ली एक शिक्षक की जान
गँगेव विकासखंड अंतर्गत पदस्थ शिक्षक संजीव शुक्ला जिन्हें विगत 3 माह से वेतन का भुगतान नहीं किया जा रहा था उन्होंने बैंक से कर्ज ले रखा था जिसके प्रत्येक माह EMI भुगतान करने के लिए उन्हें बैंक से फोन आते थे जिसके चलते उन्होंने आत्मघाती कदम उठाया और कल नींद की गोलियां खा ली थी जिन्हें आज अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया।
मध्य प्रदेश के पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने अतिथि शिक्षक को लेकर ट्वीट किया है इसमें उन्होंने लिखा है कि अतिथि शिक्षकों को वेतन नहीं मिल रहा है वे आत्महत्या के लिए मज़बूर हैं जनसेवा की प्रतीक्षा करते इन लोगों की तरफ़ भी देखिए शिवराज जी और सिंधिया जी को भी प्रेरित करिए वे भले सड़क पर न आएँ इनके लिए दबाव तो बनायें।
जीतू पटवारी ने रीवा के कांग्रेस लोकसभा प्रत्याशी रहे सिद्धार्थ तिवारी के ट्वीट पर भी रिट्वीट किया है सिद्धार्थ तिवारी ने ट्वीट किया है कि शिवराज जी,आपकी सरकार का भयावह चेहरा देखिए:वेतन ना मिलने की वजह से शिक्षक संजीव शुक्ल ने रीवा में आत्महत्या कर ली! जिस नयी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शिक्षा नीति की आप बात कर रहे थे वह इसी तरह गुरु के वध की है क्या?
Powered by Blogger.