Sushant Singh Rajput Suicide Case: चाबी वाले ने बताई बंद कमरे के पीछे की कहानी, पढ़िए रिपोर्ट





सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई की एंट्री के साथ ही जांच में तेजी आने लगी है। एक ओर जहां सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में सीबीआई ने बीते दिन ही तेजी दिखाते हुए जांच की शुरुआत के पहले दिन ही मुंबई पुलिस से इस केस से जुड़े दस्तावेज ले लिए हैं। अब दूसरे दिन सीबीआई इस केस की तहकीकात में सुशांत सिंह राजपूत के बांद्रा स्थित घर पर पहुंच गई हैं जहां दिवंगत एक्टर ने 14 जून को अंतिम सांस ली थी। यहां पहुंचने के बाद सीबीआई सुशांत सिंह राजपूत के कथित सुसाइड की जांच को आगे बढ़ाते हुए क्राइम सीन को रीक्रिएट कर रही है।

Also Read - महेश भट्ट और जिया खान का वीडियो वायरल, बढ़ रही नजदीकियों से परेशान दिखीं अदाकारा

इस बीच उस चाबी वाले का बयान सामने आ गया है। जिसे सुशांत सिंह राजपूत के एसिस्टेंट सिद्धार्थ पिठानी ने मौत वाले दिन घर बुलाकर ताला तोड़ने के लिए कहा था। न्यूज चैनल रिपब्लिक भारत की एक रिपोर्ट की मानें तो इस चाबी वाले का नाम रफीक है। रफीक ने 14 जून के दिन के बारे में बताया, ‘मुझे 1 बजे फोन आया था। कहा गया था कि अंदर कोई सो रहा है, फोन नहीं उठा रहा है और न ही दरवाजा खोल रहा है। हम काफी देर से खटखटा रहे हैं। मैंने पूछा कि एड्रेस क्या है और मुझे ताले का फोटो खींच के दे दो तो मैं ताला और टूल्स लेता आउंगा। उन्होंने मुझे एड्रेस बताया और फोटो खींचकर भी भेजा।

जब रफीक से पूछा गया कि उन्हें सुशांत सिंह राजपूत के घर पहुंचने में कितना वक्त लगा। तो उसने कहा करीब 15 मिनट। साथ ही कहा, ‘घर 6 माले पर था। गया तो वॉचमैन बिजी था। वॉचमैन ने पूछा क्या काम है तो मैंने बताया कि घर पर बेडरुम का लॉक तोड़ना है। वॉचमैन ने कहा कि फिर तो उसी घर पर जाना है काफी अर्जेंट भी बुला रहे थे। ठीक है जाओ तो मैं चला गया।’

Also Read - REWA : युवती के इशारे को मनचले ने समझ लिया इजहार , फिर हुआ ये ......

इसके बाद रफीक ने कहा, ‘ऊपर पहुंचा तो पहले लॉक को खोलने की कोशिश करने लगा। तो वो लोग बोले इसे जल्दी खोलना है। तो मैंने कहा कि फिर तो इसे तोड़ना पड़ेगा। तो वो बोले हां तोड़ दो जल्दी तोड़ दो। लेकिन कहा कि अंदर से हल्की सी भी आवाज हो या दरवाजा खुल रहा हो तो छोड़ देना’ इसके आगे जब रफीक से वहां मौजूद लोगों को देखकर किसी तरह का शक होने की बात पूछी तो वो बोला, ‘नहीं शक तो नहीं हो रहा था मैं तो अपना काम कर रहा था। मैंने सोचा अंदर कोई बुजुर्ग होगा। क्योंकि मुझे नहीं बताया गया था कि अंदर कौन है। 60-70 साल के होंगे। अगर पता होता कमरे के अंदर सुशांत सिंह राजपूत हैं और मुझे शक होता तो पहले कहता कि पुलिस को बुलाकर लाओ।’ 

चौंकाने वाली बात ये है कि चाबी वाले ने बताया कि ये ताला इलेक्ट्रॉनिक था जो बिना चाबी के लॉक नहीं हो सकता था। जबकि सुशांत के पुराने स्टाफ ने दावा किया है कि वो कमरा बिना बंद किए ही सोते थे। ऐसे में चाबी वाला का ये बयान कई और सवाल खड़ा कर रहा है। इसके अलावा चाबी वाले ने बताया कि जब उसने ताला तोड़ दिया तो दरवाजा उसके सामने खोला नहीं गया और उसे पैसे देकर वहां से विदा कर दिया गया था।






Powered by Blogger.