Weather News: इंदौर और भोपाल में बारिश ने तोड़ा रिकॉर्ड, नर्मदा नदी उफान पर, सड़कें-बस्तियां बने समंदर



इंदौर और भोपाल में बारिश ने तोड़ा रिकॉर्ड, नर्मदा नदी उफान पर, सड़कें-बस्तियां बने समंदर


अब मानसून की बेरुखी से परेशान मध्य प्रदेश में शुक्रवार-शनिवार मेघ मेहरबान रहे। भोपाल, इंदौर, होशंगाबाद, सागर संभागों में भारी बरसात हुई। इससे कई स्थानों पर बाढ़ के हालात बन गए। इंदौर में 39 साल का रिकॉर्ड टूट गया। यहां 36 घंटे में एक फीट से ज्यादा बारिश दर्ज हुई। वहीं भोपाल में 14 साल में दूसरी बार एक दिन में सर्वाधिक 23 सेंटीमीटर (नौ इंच) बरसात हुई। इसके पूर्व 14 अगस्त 2006 को 24 घंटे में 29.6 सेमी (11.65 इंच) बारिश हुई थी। 

भारी बारिश से इंदौर, भोपाल की कई बस्तियों में पानी भर गया। नर्मदा, शिप्रा नदी-नाले उफान पर आ गए। इंदौर में शनिवार सुबह 8:30 बजे तक बीते 24 घंटे में 263.4 मिमी (10.3 इंच) बारिश ने 24 घंटे में सर्वाधिक वर्षा का 39 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया। शनिवार सुबह तक बीते 36 घंटे में इंदौर में कुल 318.8 मिमी (12.5 इंच) बारिश हुई। यह एक फीट से ज्यादा है।

भोपाल में नौ इंच और होशंगाबाद में 7 इंच बारिश
भोपाल शहर में शनिवार सुबह 8.30 बजे समाप्त 24 घंटे में 23.3 (नौ इंच से ज्यादा) वर्षा हुई। होशंगाबाद में 7 इंच, रायसेन में 5.78 इंच, उज्जैन में साढ़े छह इंच, सागर 2.08 इंच, रतलाम, बैतूल में करीब दो इंच व खजुराहो में डेढ़ इंच तथा दमोह में 1.41 इंच वर्षा हुई। इसलिए हुई इतनी वर्षा भोपाल मौसम केंद्र के वरिष्ठ विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि गहरे कम दाब का क्षेत्र पूर्वी मप्र में पहुंचा तो उसे अरब सागर से भी नमी मिलना शुरू हो गई। इस वजह से वह न केवल शक्तिशाली हुआ बल्कि स्थिर भी बना रहा। मानसून ट्रफ में सिस्टम से होकर बंगाल की खाड़ी तक द्रोणिका बनी रही। इस वजह से भोपाल, इंदौर, सागर, होशंगाबाद संभाग में भारी बरसात हुई।






Powered by Blogger.