खुद के साथ हुए अन्याय को लेकर महाराष्ट्र के राज्यपाल से मिली कंगना, कहा- न्याय मिलने की है उम्मीद


मुंबई । सुशांत सिंह राजपूत के मामले में ड्रग्स केस को लेकर लगातार खुलासे करने वाली फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत ने अपना कार्यालय तोड़े जाने के बाद आज महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की। मिली जानकारी के मुताबिक अपने कार्यालय में तोड़फोड़ के बाद शिवसेना पर बरसने वाली कंगना ने राज्यपाल से कहा कि मैं किसी राजनीतिक शख्सियत नहीं हूं। मैंने एक आम नागरिक के तौर पर राज्यपाल से मुलाकात की है। मैंने राज्यपाल से अपने साथ  हुए अन्याय के बारे में बात की। मुझे उम्मीद है कि न्याय मिलेगा। इसके साथ ही कंगना ने कहा कि महाराष्ट्र की राजनीति से मेरा कोई लेना देना नहीं है। राज्यपाल ने बेटी की तरह मेरी बात सुनी और मुझे सहानुभूति और न्याय मिलने की दिलासा दी है। मुझे उम्मीद है कि मुझे न्याय मिलेगा।

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच में मुंबई की तुलना गुलाम कश्मीर से करने के बाद से ही कंगना और शिवसेना के बीच टकराव हो गया था और शिवसेना नेता संजय राउत ने कंगना रनौत पर आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल भी किया था। वहीं केंद्रीय मंत्री और RPI अध्यक्ष रामदास आठवले ने भी शुक्रवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करके कंगना को मुआवजा दिए जाने की मांग की थी। रामदास आठवले ने कंगना रनौत के दफ्तर पर BMC की कार्रवाई को गलत ठहराया था। साथ ही उन्होंने कंगना रनौत के आवास पर जाकर उनसे मुलाकात भी की थी।

केंद्र को रिपोर्ट भेजेंगे राज्यपाल कोश्यारी : गौरतलब है कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी पहले ही इस मामले को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। उन्होंने इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के प्रमुख एडवाइजर अजॉय मेहता को तलब भी किया था। राज्यपाल इस पूरे विवाद पर एक रिपोर्ट तैयार कर उसे केंद्र को भेजने वाले हैं।

कंगना के निशाने पर सोनिया गांधी : कंगना शिवसेना के खिलाफ लगातार मोर्चा खोले हुए हैं। इससे पहले अपने कार्यालय में हुई तोड़फोड़ से आक्रोशित कंगना ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को निशाने पर लिया था। कंगना ने ट्विटर पर लिखा, आदरणीय कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी जी, क्या एक महिला होने के नाते महाराष्ट्र में आपकी सरकार द्वारा मेरे साथ हो रहे बर्ताव पर आपको तकलीफ नहीं हुई? आप पश्चिम में पली-बढ़ी हैं। आप भारत में रहती हैं। आप महिलाओं के संघर्ष से अवगत होंगी। आपकी चुप्पी और उपेक्षा को इतिहास जज करेगा। आपकी खुद की सरकार महिलाओं का उत्पीड़न कर रही है और कानून-व्यवस्था का मजाक बना रही है। मुझे उम्मीद है कि आप हस्तक्षेप करेंगी। 

फड़नवीस का हमला, दाऊद का घर तोड़ने नहीं जाते

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फ़डनवीस ने भी कंगना मामले को तूल देने के लिए शिवसेना को ही जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा, महाराष्ट्र सरकार को ऐसा लगता है कि उनकी लड़ाई कोरोना से नहीं, बल्कि कंगना से है। आप अंडरव‌र्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का घर तोड़ने नहीं जाते हैं।

Powered by Blogger.