MP : प्रदेश में एक अक्टूबर से 30 नवंबर तक चलेंगी आनलाइन कक्षाएं : ऐसी होगी व्यवस्था



रीवा। उच्च शिक्षा विभाग ने एक अक्टूबर से कालेजों की कक्षाएं प्रारंभ करने का निर्देश दिया है। ये कक्षाएं आनलाइन होंगी, छात्रों को घर बैठे ही जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। इसके दिशा निर्देश विश्वविद्यालय और कालेजों को दिए गए हैं। छात्रों तक यह जानकारी पहुंचाने के लिए आकाशवाणी का सहारा लिया जा रहा है। विषय विशेषज्ञों द्वारा तैयार किए गए लेक्चर आकाशवाणी के जरिए ही छात्रों को सुनाए जाएंगे।

यह आनलाइन कक्षाएं एक अक्टूबर से 30 नवंबर तक चलेंगी। आकाशवाणी के साथ ही विभागीय पोर्टल पर आडियो, वीडियो भी अपलोड किए जाएंगे ताकि छात्र उसके जरिए जानकारी हासिल कर सकें। साथ ही कालेजों के प्राचार्यों से कहा गया है कि अपने स्तर पर कक्षावार गूगल मीट के माध्यम से आनलाइन कक्षाएं संचालित कराएं और छात्रों की ओर से किए जाने वाले सवालों का जवाब दिया जाए। इतना ही नहीं नोट्स भी छात्रों को उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है।

प्रदेश स्तर से जारी होने वाले व्याख्यान की पहले जांच की जाएगी इसके बाद ही प्रसारण होगा ताकि किसी तरह की विरोधाभाष की स्थिति उत्पन्न नहीं हो। हर दिन आकाशवाणी से तीन घंटे का प्रसारण होगा, जिसमें स्नातक कक्षाओं के 40-40 मिनट के तीन व्याख्यान होंगे और स्नातकोत्तर के 30-30 मिनट के दो व्याख्यान प्रसारित किए जाएंगे।

रीवा विश्वविद्यालय का व्याख्यान के लिए चयन नहीं
उच्च शिक्षा विभाग ने प्रदेश के बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल, देवी अहिल्याबाई विश्वविद्यालय इंदौर, रानीदुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर एवं जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर को चुना है कि ये छात्रों के लिए पाठ्य सामग्री तैयार कराएंगे। साथ ही भोज विश्वविद्यालय का भी सहयोग लेने की बात कही गई है। सभी विश्वविद्यालयों को अलग-अलग कक्षा और विषयवार व्याख्यान तैयार करने के लिए जिम्मेदारी सौंपी गई है। इसमें अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय रीवा का नाम नहीं है।

रेडियो हर छात्र के पास नहीं, बढ़ेंगी मुश्किलें
सरकार ने आकाशवाणी से कार्यक्रम प्रसारित कर छात्रों को दिलवाए जाने का आदेश तो जारी कर दिया है लेकिन वर्तमान में रेडियो काफी कम छात्रों के पास है। मोबाइल पर भी आकाशवाणी रीवा से प्रसारित होने वाले कार्यक्रम सुनाई नहीं देते। एफएम प्रारंभ किया गया है लेकिन इसमें केवल विविधभारती के कार्यक्रम मोबाइल के जरिए सुने जा रहे हैं। छात्रों ने मांग उठाई है कि आकाशवाणी द्वारा प्रस्तुत कार्यक्रम की लिंक मोबाइल पर भी दी जाए ताकि वह भी सुन सकें। 

सरकार का निर्देश आया है कि एक अक्टूबर से आनलाइन कक्षाएं प्रारंभ की जाएंगी। अभी सभी कालेज ओपन बुक प्रणाली की परीक्षा और सीएलसी के जरिए प्रवेश प्रक्रिया में जुटे हैं। कालेज स्तर पर गूगल मीट से आनलाइन कक्षाएं चलाई जाएंगी।

डॉ. पंकज श्रीवास्तव, अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा
Powered by Blogger.