लाखों PF खाताधारकों के लिए राहत की खबर, अब ONLINE मिलेगी यह महत्‍वपूर्ण सुविधा

PF Account पीएफ खाताधारकों के लिए बड़ी राहत की खबर है। अब उन्‍हें अपने पीएफ को लेकर किसी भी जिज्ञासा, प्रकरण, शिकायत या केस को लेकर पीएफ कार्यालय के चक्‍कर लगाने की झंझट से निजात मिलने वाली है। केंद्र सरकार ने इस दिशा में अहम कदम उठाया है। अब नई व्‍यवस्‍था के अनुसार कर्मचारी अपने पीएफ संबंधी शिकायतों को लेकर ऑनलाइन बात रख सकेंगे। यह संभव हो सकेगा ई-इंस्‍पेक्‍शन नाम की सुविधा के ज़रिये, जो कि काम करना शुरू कर चुकी है। शुरुआती तौर पर ही शिकायतों के आधार पर अभी तक ऐसी 35 हजार कंपनियों को नोटिस जारी किए जा चुके हैं जो कर्मचारियों के पीएफ को लेकर गड़बड़ी कर रही थीं। कर्मचारियों को भविष्य निधि संबंधी शिकायत दर्ज कराने के लिए ऑनलाइन विकल्प दिया गया है। विभाग की ओर से ई-इंस्पेक्शन शिकायत पोर्टल शुरू किया गया है। इसमें पीड़ित कर्मचारी अपनी शिकायत दर्ज कराएगा और विभाग के अफसर व निरीक्षक संबंधित कंपनी के कार्यालय में जांच करने नहीं जाएंगे। बल्कि शिकायत के आधार पर संबंधित कंपनी से ऑनलाइन ही दस्तावेज मांगेंगे और उनका समाधान करेंगे। समस्या समाधान प्रक्रिया की पूरी जानकारी शिकायतकर्ता के पास मोबाइल पर पहुंचती रहेगी।

इसलिए की गई है यह शुरुआत
पिछले कुछ समय से सरकार को ऐसी तमाम शिकायतें प्राप्‍त हो रही थीं, जिनमें विभाग के अधिकारियों और निरीक्षकों द्वारा वसूली के लिए कंपनी के कर्मचारियों को परेशान किए जाने का जिक्र था। इसलिए अब पूरी प्रक्रिया को ऑनलाइन करके विभाग ने ई-इंस्पेक्शन को देशभर के सभी पीएफ कार्यालयों में लागू कराया है। शिकायतों के आधार पर पहले चरण में 35 हजार कंपनियों को गई नोटिस दी गई है। उत्‍तर प्रदेश में कानपुर रीजन के 15 कार्यालयों में 300 से अधिक कंपनियों को नोटिस भेजकर ई-इंस्पेक्शन के लिए कहा गया है।
PF को लेकर कर्मचारी करते हैं इस तरह की शिकायतें
- वेतन में से पीएफ की कटौती का न किया जाना।
- पीएफ राशि की कटौती तय नियमों के अनुसान ना होना।
- संबंधित कंपनी में 20 से अधिक कर्मचारी होने के बाद भी कटौती न किया जाना।
- कर्मचारी को कंपनी द्वारा पीएफ राशि का समय से भुगतान न किया जाना।
- पात्रता होने के बावजूद पीएफ में कवर न किया जाना।
EPFO का कहना है, बड़ी संख्‍या में लोगों को होगा लाभ
EPFO ने इस व्‍यवस्‍था को बड़े वर्ग के कर्मचारियों को राहत पहुंचाने वाला बताया है। कानपुर के क्षेत्रीय भविष्य निधि आयुक्त विजय विक्रम बहादुर सिंह का कहना है कि ई-इंस्पेक्शन एक केंद्रीयकृत व्यवस्था है। इसका क्रियान्वयन होने से सभी को राहत मिलेगी। प्रक्रिया पारदर्शी है। शिकायतों के समाधान की जानकारी मैसेज से मिल सकेगी। अधिकारियों के अलावा कर्मचारियों ने भी इसे बेहतर बताया है। वरिष्ठ कर्मचारी नेता राजेश शुक्ला का कहना है कि ई-इंस्पेक्शन जैसी व्यवस्था, पीएफ के साथ श्रम विभाग व ईएसआइ के कार्यालयों में भी लागू करें। इनसे एक बड़ा वर्ग जुड़ा है। सभी लोगों के लिए यह बहुत जरूरी कदम है।


Powered by Blogger.