LAC पर राफेल उड़ाती दिखाई देंगी वाराणसी की बेटी पहली महिला पायलट शिवांगी


वाराणसी .शहर की बेटी शिवांगी सिंह देश की पहली ऐसी महिला पायलट बन गईं है, जो राफेल लड़ाकू विमान को उड़ाएंगी। शिवांगी को राफेल विमान के स्क्वाड्रन की पहली महिला पायलट बनने का गौरव हासिल हुआ है। शिवांगी को राफेल विमान की जिम्मेदारी मिलने के बाद पूरे परिवार में खुशियों का माहौल बना हुआ है। उनके पिता ने इस पल को लेकर कहा है कि "यह हमारे लिए गर्व की बात है। उसने कड़ी मेहनत की, हमने उसका समर्थन किया। हम आज बहुत खुश हैं।" वहीं, दूसरी ओर परिवार के लोगों को बधाई देने के लिए लोगों का तांता लगा हुआ है।

बताया गया कि शिवांगी को फाइटर पायलट बनने का जुनून अपने नाना को देखकर मिला था, जो की खुद एक कर्नल रह चुके थे। शिवांगी का यह सपना तब पूरा हुआ, जब उन्हें भारतीय वायुसेना में फ्लाइंग अफसर के रूप में चयन किया गया। ये पल शिवांगी के की जिंदगी की सबसे अहम पल में से एक था। बता दें कि वाराणसी की रहने वाली फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह इस वक्त राजस्थान एयरबेस में तैनात हैं और अभी मिग 21 लड़ाकू विमान उड़ाती हैं। बहुत जल्द ही शिवांगी भारत—चीन की सीमा पर राफेल उड़ाती दिखाई देंगी।

इसी साल 10 सितंबर को पांच राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप अंबाला एयरबेस पर औपचारिक रूप से भारतीय वायुसेना में शामिल की गई थी। ये विमान वायुसेना के 17वें स्क्वाड्रन, "गोल्डन एरो" का हिस्सा बने। अंबाला में ही राफेल फाइटर जेट्स की पहली स्क्वाड्रन तैनात है। इस स्क्वाड्रन में 18 राफेल लड़ाकू विमान, तीन ट्रैनर और बाकी 15 फाइटर जेट्स होंगे।

2017 में कमीशन प्राप्त कर वायुसेना में पायलट बनी थी शिवांगी, 2013 में गणतंत्र दिवस परेड के दौरान दिल्ली में कर चुकी हैं उत्तर प्रदेश की टीम का प्रतिनिधित्व

प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के वाराणसी के फुलवरिया की रहने वाली शिवांगी सिंह देश के सबसे बड़े राफेल लड़ाकू विमान को उड़ाने वाली पहली पायलट बनने जा रही है। बता दें कि बचपन से ही पढ़ाई में होनहार शिवांगी को सेना में पायलट बनने की प्रेरणा उनके नाना से मिली, जो सेना में कैप्टन रह चुके हैं। शिवांगी ने अपनी उच्च शिक्षा बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) से प्राप्त की, जहां वह नेशनल कैडेट कोर (एनसीसी) में 7 यूपी एयर स्क्वाड्रन का हिस्सा भी रही। इसी दौरान उन्होंने वर्ष 2013 की गणतंत्र दिवस परेड के दौरान दिल्ली में उत्तर प्रदेश की टीम का प्रतिनिधित्व भी किया। दिसंबर 2017 में वायुसेना में कमीशन पाने वाली शिवांगी की मां सीमा सिंह ने जहां बेटी की इस अभूतपूर्व उपलब्धि पर कहा है कि उनकी बेटी ने बचपन से जो सपना देखा था, उसे पूरा किया वहीं शिवांगी के पिता कुमारेश्वर सिंह का कहना है कि हमें शिवांगी पर गर्व है वह न केवल अपने परिवार-अपने क्षेत्र का नाम रोशन कर रही है बल्कि भविष्य में देश का नाम भी रोशन करेगी।

Powered by Blogger.