MP : कोरोना से ठीक हुए 50 फीसद मरीजों को नहीं आ रही नींद, 30 फीसद को दिल की धड़कनें बढ़ने की शिकायत

इंदौर में एकाएक दिल की धड़कन बढ़ने की समस्यां सामने आ रही हैं। मरीजों की ऐसी शिकायत से डॉक्टर भी आश्चर्य में है। कईं मरीजों को नींद की गोलियां भी देना पड़ रही हैं। कुछ मरीज ऐसे भी थे, जिन्होंने खून के थक्के जमने की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती होकर इलाज करवाया। फिर डिस्चार्ज होने के बाद दोबारा इसी शिकायत के साथ अस्पताल में भर्ती होना पड़ा।

केस-1ः 60 वर्ष की महिला कोविड संक्रमण से ठीक होकर घर पहुंची। दो से तीन सप्ताह तक कमजोरी होने व दिल की धड़कन एकाएक बढ़ने की शिकायत थी।

केस-2 : 65 वर्षीय व्यक्ति अस्पताल से डिस्चार्ज हुए लेकिन नींद न आने व घबराहट होने के कारण चार दिन बाद उन्हें फिर से भर्ती होना। दो दिन चिकित्सकों के निरीक्षण में उन्हें नींद की गोलियां लेना पड़ी और एक माह से इस दवा का सेवन कर रहे हैं।

केस-3 : 35 वर्षीय व्यक्ति को अस्पताल से छुट्टी होने के बाद सीने में दर्द और दिल की धड़कन तेज चलने की शिकायत हुई। आकलन में उनके दाएं फेफड़े में खून का थक्का जमना पाया गया। आइसीयू में रहकर इलाज करवाना पड़ा।

ऐसी शिकायतों के साथ आ रहे हैं मरीज

अरबिंदो चिकित्सा अस्पताल के छांती रोग विभाग के प्रोफेसर व विभागाध्यक्ष डॉ. रवि डोसी के मुताबिक संक्रमण से ठीक हुए कुछ मरीजों के हाथ-पैर में झुनझुनी होने, नींद न आने, जांघ में तेज दर्द व दिल की धड़कन बढ़ती हुई महसूस होने की शिकायत आ रही है। कुछ मरीजों में खून के थक्के जमने की प्रवृत्ति भी दिखाई दीं। जैसे चिकनगुनिया में हाथ-पैर में दर्द होता है वैसे ही बदन व जोड़ों में दर्द के लक्षण दिखाई दे रहे हैं।

बहुत जरूरी हो तो ही लें नींद की दवा

एमजीएम मेडिकल कॉलेज के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर डॉ. सलिल भार्गव के मुताबिक संक्रमण के बाद स्वस्थ हुए कईं मरीजों ने कमजोरी महसूस होने और दिल की धड़कन बढ़ने की शिकायत की। कमजोरी के कारण मरीजों को ऐसा महसूस हो रहा है। डर व घबराहट से कुछ को नींद न आने की समस्या है लेकिन जरूरी हो तो ही नींद की दवा लें।


हमारी लेटेस्ट खबरों से अपडेट्स रहने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FacebookInstagramGoogle News ,Twitter

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ जुड़े हमसे  

Powered by Blogger.