REWA : रीवा में 160 करोड़ रुपए की परियोजना का निर्माण, यहां कचरे से बनेगी बिजली



रीवा. कलेक्ट्रेट सभागार में एकीकृत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन योजनान्तर्गत आयोजित कार्यशाला आयोजित की गई। इस दौरान पहडिय़ा में निर्माणाधीन 45 एकड़ के संयंत्र पर मंथन किया गया। अफसरों ने कहा कि इस संयंत्र के प्रारंभ हो जाने से रीवा, सतना व सीधी जिले के 28 नगरीय निकायों का प्रतिदिन 340 मीट्रिक टन निकलने वाले कचरे का प्रबंधन होगा। शुक्रवार को आयोजित कार्यशाला में बतौर मुख्य अतिथि विधायक राजेन्द्र शुक्ल मौजूद रहे।

भूमि चयनित नहीं हो पाई

उन्होंने कहा कि शहर को साफ सुथरा व स्वच्छ रखने के लिए अधिकारी पूरे जुनून के साथ कार्य करें। विधायक ने कहा कि जिन नगरीय निकायों में कचरा संग्रहण स्थल के लिए भूमि चयनित नहीं हो पाई है वहां शीघ्र भूमि का चयन कर कचरा ट्रांसफर स्थल बनाएं। कमिश्नर राजेश कुमार जैन ने कहा कि प्रबंधन के संसाधन निर्मित जरूरी है ताकि कचरे का निष्पादन हो सके। जिन नगरीय निकायों में कचरा संग्रहण स्थल के लिए भूमि चयनित नहीं हुई है वहां तीन दिन के भीतर भूमि का चयन कर एसडीएम के माध्यम से प्रस्ताव संबंधित कलेक्टर को भेजें ताकि भूमि का आवंटन किया जा सके।



उच्च प्राथमिकता का कार्यक्रम

कार्यशाला में रीवा कलेक्टर इलैयाराजा टी ने कहा कि यह उच्च प्राथमिकता का कार्यक्रम है। घर-घर से कचरे का समय पर उठाव हो तथा इस कार्य की एसडीएम मॉनीटरिंग करें। इस दौरान आयुक्त नगर निगम मृणाल मीणा ने घर से कचरा संग्रहण का काम दोपहर 12 बजे तक पूरा करने व कचरा संग्रहण वाहनों व अन्य प्रचार-प्रसार की गतिविधियों के माध्यम से लोगों को स्वच्छता के लिए जागरूक व कचरा संग्रहण एजेंसी को निर्देश दिए। कार्यशाला में भोपाल से सलाहकार स्वच्छ भारत मिशन नगरीय प्रशासन कमल किशोर श्रीवास्तव ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े और परियोजना का प्रस्तुतीकरण दिया।

कार्यशाला के अंत में आभार प्रदर्शन

कार्याशाला में ये रहे मौजूद एकीकृत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन योजना क्लस्टर रीवा की कार्यशाला के अंत में आभार प्रदर्शन अधीक्षण यंत्री नगर पालिक निगम रीवा शैलेन्द्र शुक्ल ने किया। इस दौरान संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन एसके सिंह, कार्यपालन यंत्री एसके चतुर्वेदी,अनुभाग के एसडीएम तथा रीवा, सतना जिलों के नगरीय निकाय के सीएमओ व अधिकारी तथा रेमकी कंपनी के प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

ठोस अपशिष्ट प्रबंधन संयंत्र पहडिय़ा का किया भ्रमण

जिले के ग्राम पहडिय़ा में निर्माणाधीन एकीकृत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन संयंत्र का विधायक राजेन्द्र शुक्ल और अफसरों ने भ्रमण कर निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया। भ्रमण के दौरान कचरा प्रबंधन संयंत्र का कार्य शीघ्र पूरा करने पर बल दिया गया। जिससे आगामी 20 नवम्बर को इसका लोकार्पण हो सके। इस दौरान विधायक ने कहा कि संयंत्र में कचरा प्रबंधन का कार्य सुरक्षित तरीके से किया जाएगा तथा गांव या आसपास के क्षेत्र में किसी भी प्रकार के प्रदूषण आदि की कोई समस्या नहीं होगी। उन्होंने संयंत्र परिसर में किए गए वृक्षारोपण की जानकारी ली। 45 एकड़ में निर्माणाधीन हैं संयंत्र संयंत्र परिसर में बड़ी संख्या में पौधे लगाए हैं ताकि वातावरण में आक्सीजन की मात्रा में वृद्धि हो।

45 एकड़ में निर्मित इस संयंत्र के प्रारंभ

अधिकारियों ने बताया कि 45 एकड़ में निर्मित इस संयंत्र के प्रारंभ हो जाने से रीवा, सतना व सीधी जिले के 28 नगरीय निकायों का प्रतिदिन 340 मीट्रिक टन निकलने वाले कचरे का प्रबंधन होगा। जिससे मिलने वाला आरडीएफ सीमेंट फैक्ट्रियों के काम आएगा शेष 10 से 15 प्रतिशत भाग से कम्पोस्ट खाद का निर्माण होगा। इसी प्रकार कचरे से आगामी दिनों में 6 मेगावाट वेस्ट टू एनर्जी बिजली भी पैदा होने लगेगी। यह परियोजना 158.67 करोड़ रुपए की लागत से रेमकी कंपनी द्वारा निर्माणाधीन है। इस दौरान कमिश्नर राजेश कुमार जैन, कलेक्टर इलैयाराजा टी, नगर निगम आयुक्त मृणाल मीणा सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

हमारी लेटेस्ट खबरों से अपडेट्स रहने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FacebookInstagramGoogle News ,Twitter

Powered by Blogger.