MP : 25 हजार की रिश्वत लेते ड्रग विभाग का लिपिक रंगे हाथाें गिरफ्तार

ग्वालियर। लोकायुक्त की टीम ने गुरूवार को ग्वालियर कलेक्ट्रेट स्थित आैषधीय विभाग में पदस्थ लिपिक को 25 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है।

लधेड़ी निवासी महेंद्र पाल ने बताया कि उसे दवा मार्केटिंग का लाइसेंस बनवाना था। 3150 रुपये की रसीद कटवाने के बाद जब कलेक्ट्रेट स्थित आैषधीय विभाग पहुंचा तो वहां ड्रग इंस्पेक्टर अजय ठाकुर से मुलाकात हुई। ड्रग इंस्पेक्टर ने लाइसेंस के लिए 30 हजार रुपये की डिमांड रखी। पैसे के लेनदेन को लेकर कई दिनों से बातचीत का दौर चल रहा था। 27 अक्टूबर को जब मैने फोन किया और दफ्तर आने की बात कही तो ड्रग इंस्पेक्टर अजय ठाकुर बोले कि तुम दफ्तर मत आआे, मैं तुम्हारी दुकान पर आ जाऊंगा।

दुकान पर हुई बातचीत के बाद वे 25 हजार में लाइसेंस देने को राजी हो गए। मैने इसकी पूरी रिकार्डिंग सहित लोकायुक्त में शिकायत दर्ज करा दी। इसके बाद गुरूवार को लोकायुक्त की टीम ने महेंद्र को 25 हजार रुपये लेकर कलेक्ट्रेट स्थित आैषधीय विभाग में भेजा।

दफ्तर में ड्रग इंस्पेक्टर अजय ठाकुर मौजूद नहीं थे। फोन पर चर्चा के आधार पर लिपिक अयूब खान को 25 हजार रुपये थमा दिए। इसके साथ ही लोकायुक्त की टीम ने लिपिक को रंगे हाथों पकड़ लिया। टीम को अजय ठाकुर मौके पर मौजूद नहीं मिले हैं, लेकिन अॉडियो रिकार्डिंग टीम के पास मौजूद है।

Powered by Blogger.