REWA : नौ दिवसीय दुर्गोत्सव तैयारियां आज से शुरू, रानी तालाब में भक्तों की रहेगी भीड़

रीवा। नवदुर्गा में जगत जननी माता पालकी में सवार होकर आएंगी और नौ दिनं तक माता का भक्तों पर आशीर्वाद बरसेगा। पंडित दीनानाथ शर्मा ने बताया कि दुर्गा का आगमन डोली में और प्रस्ताव मुर्गा वाहन पर होगा। सूर्य व चंद्रमा निर्मित उभयचारी और दुरुधारा महान राजयोग में दुर्गा पूजा शुभ फलदायी रहेगी। भक्त माता की आराधना करें तो उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी। नवदुर्गा महोत्सव को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं। शहर में जगह-जगह दुर्गा पंडाल भक्तों द्वारा लगाए जा रहे हैं, जहां शुभ मुहूर्त में प्रतिमा स्थापना के साथ ही नौ दिन तक शहर देवी मां की भक्ति में डूबा रहेगा।

ऐसे करें पूजा 

कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजे से साढ़े 8 बजे तक रहेगा। लेकिन अन्य किसी कारणों से संभव न हो पाए तो उदयकालीन तिथि मानकर दिन में कलश स्थापना कर सकेंगे। कलश स्थापित करने के समय स्वास्तिक बनाएं फिर कलावा बांधे, कलावा बांधने के बाद उसमें पवित्र जल भर दें। इसके बाद साबुत, सुपारी, फूल, पंचरत्न व अक्षत डाल दें इससे भक्तों पर मां की कृपा बनी रहती है।

अजब निराली है कालिका माता 

रानी तालाब स्थित सिद्घी देवी कालिका माता अजब निराली है। शहर का यह ऐतिहासिक मंदिर है। यहां माता कालिका की प्रतिमा स्थापित है। मंदिर के पुजारी देवी प्रसाद शर्मा बताते हैं कि लवाने समुदाय के लोग माता की प्रतिमा को लेकर जा रहे थे। उन्होंने उक्त स्थान पर प्रतिमा को रख कर कुछ समय के लिए आराम करने लगे और जब प्रतिमा को उठाने का प्रयास किए तो प्रतिमा जस की तस उक्त स्थान पर ही रह गई। कई प्रयासों के बाद जब प्रतिमा नहीं उठी तो वे चले गए। तब से यह प्रतिमा स्थापित है। रीवा राजघराने की महारानी अजब कुमारी ने माता की उपासक थीं और उन्होंने प्रतिमा स्थल पर मंदिर का निर्माण कराने के साथ ही तालाब भी बनवाया था। नवदुर्गा उत्सव और नवरात्र पर राजघराने से मां को सोलह श्रृंगार और आभूषण अष्टमी में चढ़ता है। दूर-दराज से लोग धार्मिक आयोजन करने के साथ ही नौ दिनों तक विशेष पूजा-अर्चना करते हैं।

स्थापना के लिए रवाना होने लगीं प्रतिमाएं 

शुभ मुहूर्त में प्रतिमा स्थापना करने के लिए जिले के दूर-दराज क्षेत्रों से भक्त शनिवार को पहुंचे और दुर्गा प्रतिमा स्थापना के लिए लेकर जाते हुए देखे गए। हालांकि अभी दुर्गा प्रतिमा ले जाने वाले भक्तों की संख्या कम ही रही।


हमारी लेटेस्ट खबरों से अपडेट्स रहने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FacebookInstagramGoogle News ,Twitter

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ जुड़े हमसे  

Powered by Blogger.