सब्जियों के दाम 70% तक घटे, प्याज के दाम 25 रुपए किलो तक कम : जानिए किस राज्य में क्या है दाम

भोपाल। सब्जी मार्केट में प्याज आलू समेत सभी हरी सब्जियों के दाम भी तेजी से नीचे आ रहे हैं। महज पांच दिनों में आलू और करेला को छोड़कर प्याज समेत सभी हरी सब्जियों के दाम 25ऽ से लेकर 70ऽ तक घट गए हैं। प्याज के दामों में अचानक गिरावट का कारण मप्र सरकार द्वारा लगाई गई स्टॉक लिमिट को माना जा रहा है। लेकिन नासिक से प्याज की आवक दोगुनी होने से भी दाम एकदम से कम हुए हैं।

सब्जी विक्रेता कहते हैं कि शीत ऋतु में हर साल हरी सब्जियों की भरपूर आवक होती है। इसलिए ग्राहकों को इस सीजन में पूरे साल से कम दामों पर सब्जियां मिलती हैं। इस बार मानसून के देरी से विदा होने के कारण स्थानीय फसलों के आने में देरी हुई। पूरे अक्टूबर में इस बार हरी सब्जियों की स्थानीय आवक कम थी। ज्यादातर हरी सब्जियां महाराष्ट्र और राजस्थान से आ रहीं थी। इसके उलट दूसरे राज्यों में फसलें खराब होने के कारण प्याज यहां से बाहर भेजी जा रही थी। इसलिए सभी सब्जियों के दाम अक्टूबर में आसमान पर थे। हालांकि नवंबर के पहले हफ्ते में स्थितियों में तेजी से बदलाव आ रहा है। रतलाम की तरह खंडवा भी प्रदेश का प्रमुख सब्जी उत्पादक क्षेत्र बन गया है।

इस तरह गिरे दाम

प्याज की आवक....90 मीट्रिक टन से बढ़कर 350 मीट्रिक टन

बाहरी राज्यों से मांग का दबाव होने के कारण राजधानी का केवल 90 मीट्रिक टन प्याज ही बाजार में आ रहा था। शेष प्याज बाहर भेजा जा रहा था। लेकिन 5 नवंबर को स्थानीय मंडी में 350 मीट्रिक टन प्याज आया। इसमें 80ऽ तक प्याज स्थानीय बाजारों में आया। केवल 20ऽ प्याज ही भोपाल से लगे दूसरे क्षेत्रों में गया।

हरी सब्जियां... रतलाम, खंडवा और बैतूल से आ रहीं हैं, इसलिए रेट कम

अक्टूबर में प्याज भारी मात्रा में बाहर जा रहा था। टमाटर समेत दूसरी हरी सब्जियां महाराष्ट्र, राजस्थान और गुजरात से मंगाई जा रहीं थी। इसलिए सबके दाम आसमान पर थे। अब प्याज जहां बाहर से आने लगा है, वहीं हरी सब्जियां रतलाम, खंडवा और बैतूल से आ रहीं हैं। इसलिए एकदम से दाम कम हो गए हैं।

Powered by Blogger.