MP : अजब गजब : पत्नी ने अपनी इच्छा से पति को दिया तलाक, खशी-खुशी करवाई पति की प्रेमिका से शादी

भोपाल। राजधानी के पति-पत्नी का एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। एक पत्नी ने शादी के तीन साल बाद पति को तलाक देकर प्रेमिका से उसकी शादी करा दी। कुटुंब न्यायालय की काउंसलर के पास पति व पत्नी ने आपसी सहमति से तलाक लेने का केस आया था। पत्नी ने पहले तलाक दिया और उसके बाद प्रेमिका से उसे मिलवाया।

हालांकि पति अपनी पत्नी को तलाक नहीं देना चाहता था और प्रेमिका से शादी करके दोनों को साथ रखना चाहता था, लेकिन पत्नी काफी समझदार थी। उसने कानूनी प्रक्रिया के तहत पहले पति को तलाक दिया और फिर उसकी शादी उसकी प्रेमिका के साथ करा दी। काउंसिलिंग में पत्नी ने कहा कि शादी के एक साल बाद से उसका पति काफी उदास रहता था। इस कारण उसने ऐसा कदम उठाया, ताकि पति अपनी प्रेमिका के साथ अपना नया जीवन शुरू कर सके। इस दौरान पति आपसी सहमति से तलाक लिया और पत्नी को एक मकान और भरण-पोषण की राशि देने के लिए तैयार हुआ, लेकिन पत्नी ने लेने से इंकार कर दिया।

अपना फर्ज निभाया

काउंसिलिंग में पत्नी ने कहा कि शादी के डेढ़ साल बाद मेरा पति किसी दूसरी लड़की के प्रति आकर्षित हो गया और उससे प्रेम करने लगा। शायद मेरे अंदर ही कोई कमी रही होगी, जिससे वह किसी अन्य लड़की से प्यार करने लगा। उसके पति हमेशा उदास रहते थे। उसने कहा कि पति ने पत्नी से ज्यादा दोस्त का दर्जा दिया। ऐसे में दो प्यार करने वालों के बीच रहना सही नहीं था। कोई भी रिश्ता कानूनी तौर पर भी मजबूत होना चाहिए, इसलिए तलाक लेने का फैसला किया और दोनों की मंदिर में शादी करवाई।

शादी के बाद अफेयर शुरू हुआ

काउंसिलिंग में पति ने कहा कि उसने घर वालों की पसंद से शादी की थी। उसकी पत्नी बहुत अच्छी है, लेकिन एक लड़की से डेढ़ साल से उसका अफेयर चल रहा था। प्रेमिका शादी करने के लिए दबाव बना रही थी। जब पत्नी को इस बारे में पता चला तो उसने प्रेमिका से मिलवाने के लिए मेरी पूरी मदद की। उसने घरवालों को भी समझाया। पत्नी बहुत ही समझदार थी, मेरी प्रेमिका के साथ शादी कराने में पूरी मदद की।

पति दोनों महिलाओं से संबंध बनाए रखना चाहता था, जो की कानूनी तौर पर संभव नहीं है। पत्नी भी काफी समझदार थी, तलाक देकर प्रेमिका से शादी करा दी। अब वह अपने पति से दूर रहती है और दोनों का घर बसता हुआ देखकर खुश है।

सरिता राजानी, वकील काउंसलर, कुटुंब न्यायालय

Powered by Blogger.