MP : बीजेपी की हैप्पी दिवाली / शामिल हुए ज्यादतर मंत्रियों ने दर्ज की बड़ी जीत, कांग्रेस का बिकाऊ वर्सेस टिकाऊ मुद्दा हुआ फुस्स

भोपाल । मध्यप्रदेश के उपचुनाव में बीजेपी ने 19 और कांग्रेस ने 9 सीटों पर जीत दर्ज की है,  जिसमें ये साफ हो गया है कि मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार का राज कायम रहेगा। उपचुनाव में बड़ी जीत के बाद एख्घ् में जश्न का माहौल है।  एख्घ् नेता इस जीत का श्रेय अपने कार्यकर्ताओं और सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों को दे रही है। इसके साथ ही सत्ता में वापसी की कांग्रेस की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगा है... कांग्रेस ने अपनी हार स्वीकार की है, लेकिन एक बार फिर प्रशासन की भूमिका और कज्ग् सवाल भी खड़े किए हैं।

MP में बीजेपी की हैप्पी दीवाली हो गई है। भोपाल के बीजेपी दफ्तर से लेकर ग्वालियर-चंबल, मालवा और बुंदेलखंड में एख्घ् जश्न में डूबी नजर आई। उपचुनाव के नतीजों से साफ हो गया कि मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार कायम रहेगी। क्ग् शिवराज सिंह से लेकर बीजेपी के तमाम बड़े इस जीत का श्रेय कार्यकर्ताओं की मेहनत को दे रहे हैं।

उपचुनाव में 14 मंत्री मैदान में थे, इनमें ज्यादातर ने बड़े अंतर से जीत हासिल की है। तुलसी सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत, प्रद्युम्न सिंह तोमर, प्रभुराम चौधरी, राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, हरदीप सिंह डंग, महेन्द्र सिंह सिसोदिया और बिसाहूलाल सिंह ने 2018 के चुनाव के मुकाबले उपचुनाव में ज्यादा वोटों से जीते हैं।

इधर कांग्रेस अपने पक्ष में नतीजों को लेकर पूरी तरह आश्वस्त थी, लेकिन जैसे जैसे दिन चढ़ता गया, कांग्रेस की सत्ता वापसी की आस टूटती गई। कांग्रेस ने अपनी हार जरूर स्वीकारी है, लेकिन प्रशासन की भूमिका और कज्ग् पर सवाल भी उठाए हैं।

मध्यप्रदेश में उपचुनाव के नतीजों ने बीजेपी के सत्ता पलट पर मुहर लगाई। कांग्रेस के बिकाऊ वर्सेस टिकाऊ के मुद्दे को खारिज कर दिया। शिवराज के चेहरे पर फिर भरोसा जताया, साथ ही सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के फैसले को भी सही साबित किया है। कुछ एक मंत्रियों को छोड़ दिए जाए, तो उपचुनाव के नतीजों में सिंधिया का दमखम नजर आया।

Powered by Blogger.