REWA : रतहरा से चोरहटा की सड़के धूल और गड्ढ़ो में तब्दील, आमजन की तकलीफ को देखते महिला कांग्रेस कार्यवाहक कविता पाण्डेय ने रैली निकाल कलेक्टर को सौपा ज्ञापन

रीवा . महिला कांग्रेस की कार्यवाहक अध्यक्ष कविता पाण्डेय के नेतृत्व में रैली निकाल कर संजय नगर पानी की टंकी से सिरमौर, चैराहा राजीव गांधी जी की मूर्ति तक पद यात्रा कर पंहुचे, मूर्ति के पास जिला कलेक्टर को इस आशय का ज्ञापन पत्र सौपा गया कि शहर का मुख्य मार्ग रतहरा से चोरहटा तक विगत 15 वर्षों से लगातार बदहाल है। रतहरा, संजय नगर, समान नाका, नेहरू नगर, पीटीएस, सिरमौर चैराहा, कॉलेज चैराहा, ढेकहा से लेकर चोरहटा तक शहर के सभी प्रमुख मार्गों पर विगत लगभग 15 वर्षों से तीन से 5 फुट तक के गड्ढे लगातार बने हुए हैं। 

भीषण धूल के गुबारों और मिट्टी के ढेरों से शहर पटा पड़ा है, शहर वासियों का जीवन बद से बद्तर हो गया है, गंभीर बीमारियों का ग्राफ दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है, स्वास्थ संबंधी बीमारियों के लिए खतरे की घंटी बज चुकी है, इन सड़कों के किनारे रहने वाले और तमाम शहर वासियों का स्वास्थ्य इससे प्रभावित है, गंभीर बीमारियों जैसे दमा-अस्थमा एवं स्वास्थ्य संबंधित अन्य कई प्राण घातक बीमारियों ने पूरे शहर को अपने चपेट में जकड़ा हुआ है, बीमारियों का ग्राफ जिस तरह से बढ़ा है उसे देखकर लगता है स्थितियाँ बेकाबू हैं। सरकार इनसे प्रभावित लोगों के स्वास्थ्य सुविधाएं एवं इलाज मुहैया कराने हेतु मुफ्त शिविर चलाने की व्यवस्था करें। 

इन जगहों से जिन गरीबों, व्यापारियों, फुटकर व्यवसायियों का बेघरों का पलायन हुआ है इनके रहने एवं इनके व्यवसाय के लिए सर्वोचित नया प्रबंध करें, जिससे इनका जीवन मानव जीवन स्तर के जीवन यापन तक पहुंच पाए। पर्यावरण प्रदूषण लगातार बढ़ता जा रहा है, शहर की आबोहवा दिनों-दिन जहरीली हो रही है, शुद्ध सांस लेने वाली हवा की गुणवत्ता में गिरावट लगातार चिंता की लकीर खींचे हुए है। 

शहर का हरित क्षेत्र का प्रतिशत भी क्रमशः घट रहा है जो कि भयावह एवं डरावना है। समान तिराहे से पी.टी.एस. तक की सड़क जो कोविड काल में केवल 1 माह के लिए बन्द होनी थी, वो विगत 8-9 महीनों से बन्द है, जिससे वहां के व्यापारी एवं उस इलाके के रहवासियों के लिए इन हालातों में घर से बाहर निकलने जरूरत के समान राशन तक जुटा पाने, निजी कार्यक्रमों के आयोजन कर पाने में असक्षमता आ रही है, एवं 20-30 हजार तक के किराए पर दुकान संचालित करने वाले, स्वरोजगार करने वाले स्वयं ही अपनी दुकानों तक नही पहुँच पा रहें है। आदर्शों पर चल रही सुनियोजित व्यवस्थाओं का सुचारू रूप से चल पाना अत्यंत मुश्किल हो गया है। 

छोटे स्वरोजगार वालों, रेहड़ी-पटरी लगाने वालों, छोटे मझोले दुकानदारों किराए से दुकान लेकर व्यवसाय करने वालों के लिए स्थितियाँ पहले कोविड की वजह से दयनीय थी ही लेकिन बदहाल सड़क और ऐसी अकर्मण्य व्यवस्था ने उनके ऊपर वज्रपात गिराने जैसा काम किया है। दिनों दिन घाटे में जाता व्यापार, बढ़ता हुआ कर्ज एवं आय के अन्य स्रोत न होने के कारण घर चलाने में परिवार का पेट पालने में अथाह दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इन छोटे मझोले दुकानदार, व्यवसायियों, रेहड़ी पटरी एवं रोजमर्रा की बिक्री से पेट पालने वालों को सरकार विगत 8 माह का प्रतिमाह 50000/-रूपये की राशि के हिंसाब से मुआवजें के रूप में शीघ्र अति शीघ्र देवें।

प्रशासन से कविता पाण्डेय ने मांग की है कि ज्ञापन पत्र में अंकित की गई आमजनमानस की समस्त मांगों के साथ एक हफ्ते के भीतर सडक निर्माण का कार्य करें, धूल को नियंत्रित करने के लिए प्रतिदिन कम से कम दो बार पानी का छिड़काव, अतिशीघ्रता एवं त्वरित कार्यवाहियों के माध्यम से पूर्ण करे। अन्यथा उक्त समस्त परीस्थितियाँ आने वाले दिनों में और भी भयवाह एवं मानव जीवन, उसके आदर्शों पर ही प्रश्न चिन्ह खड़े करने वाली होगी। 

ज्ञापन पत्र सौपने वालों मे प्रमुख रूप से ये रहें शामिल 

कविता पाण्डेय प्रदेश कार्यवाहक अध्यक्ष महिला कांग्रेस, विद्यावती पटेल पूर्व विधायक, बविता साकेत पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष, पार्षद अशोक पटेल झब्बू, पार्षद गोविन्द शुक्ला, पार्षद नज़मा बेगम, तारा त्रिपाठी, प्रभा सोहगौरा, योगिता सिंह परिहार, नेहा सिंह चन्देल, किरण सिंह, स्वाती तिवारी, आनन्द कुशवाहा, शिवशंकर मिश्रा, विनय मिश्रा, संजय दुबे, राजू तिवारी, ज्ञानप्रकाश त्रिपाठी, सुनील तिवारी, अनुराग मिश्रा, राहुल तिवारी, राजविलास शुक्ला, अभय मिश्रा, मनोज अग्रवाल, पुष्पेन्द्र मिश्रा, बृजलाल यादव, हीरामणि मिश्रा, शाहिद पठानिया सहित नेहरू नगर से सिरमौर चैराहा के व्यापारीगण भी इस पद यात्रा में शामिल रहें।

कविता पाण्डेय कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष; म0प्र0 महिला कांग्रेस कमेटी भोपाल

Powered by Blogger.