लिव-इन रिलेशनशिप : 12 साल से प्यार के खातिर रही करवा चौथ : शक के चलते डाल दिया तेजाब

उज्जैन. शहर की साईंधाम कॉलोनी में बुधवार को एसिड अटैक की घटना सामने आई। लिव इन में रह रहे एक पार्टनर ने महिला पर शक के चलते एसिड डाल दिया। पीड़ित सुनीता 12 साल से पार्टनर मुकेश के लिए करवा चौथ रख रही थी और आज ही के दिन उसे इस दरिंदगी का शिकार होना पड़ा। महिला के शरीर का ऊपरी हिस्सा बुरी तरह झुलस चुका है। नीलगंगा पुलिस ने आरोपी मुकेश को गिरफ्तार कर लिया है।

पिता बोले- जिंदगी का एक ही मकसद, मुकेश को सजा दिलाना

सुनीता के पिता मनोहरलाल रावत ने बताया, "बेटी की शादी साल 2000 में शमशाबाद के रहने वाले अनिल पटवा के साथ हुई थी। उससे दो बच्चे भी हुए। एक बेटा और एक बेटी। शादी की शुरुआत तो ठीक रही, लेकिन बाद में विवाद शुरू हो गया। वर्ष 2007 आते-आते संबंध इतना बिगड़ गया कि तलाक हो गया। उसके बाद गांव के ही शादीशुदा मुकेश ने हमदर्दी जताते हुए सुनीता से दोस्ती बढ़ाई। इसी बीच सुनीता को नर्सिंग का कोर्स कराया। कोर्स पूरा होने के बाद सुनीता उज्जैन शहर के तेजेनकर हॉस्पिटल में नौकरी करने लगी। उज्जैन के साईंधाम कॉलोनी में किराए के मकान में सुनीता और मुकेश रहने लगे थे।

पिता मनोहर ने बताया- सुबह करीब साढ़े पांच बजे छोटी बेटी बबीता का फोन आया कि पापा आप जल्दी दीदी के घर पहुंचो। मुकेश ने दीदी के चेहरे पर एसिड फेंक दिया है। यह सुनते ही 10 मिनट में पत्नी के साथ सुनीता के घर पहुंच गया। सुनीता का सिर और ऊपरी हिस्सा बुरी तरह झुलस गया था। एम्बुलेंस से लेकर उसे जिला अस्पताल आए। वहां से रेफर कराकर तेजेनकर हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया। अब जिंदगी का एक ही मकसद है। जब तक मुकेश को सजा नहीं दिला दूंगा, तब तक चैन नहीं मिलेगा।

सुनीता किसी से बात करती तो मुकेश शक करता था

सुनीता के परिजनों ने बताया कि मुकेश हमेशा उसपर शक करता था। यहां तक कि अस्पताल में आकर उसकी निगरानी करता। मरीजों और उनके परिजनों से सुनीता बात करती तो ऐतराज जाहिर करता। नौकरी छोड़ने के लिए दबाव बनाता।सुनीता का पहला पति तलाक के बाद बच्चों को अपने साथ ले गया। मुकेश भी शादीशुदा है। उसके भी दो बच्चे हैं। वह सुनीता के साथ 12 साल से लिव-इन रिलेशनशिप में रहता है। सुनीता जब भी शादी के लिए कहती तो मुकेश हमेशा टाल जाता। मुकेश दूध का व्यवसाय करता है।

Powered by Blogger.